Breaking News

आजमगढ़-मऊ दोहरी लाइन का निरीक्षण करने पहुंचे रेल अधिकारी

मुल्क तक न्यूज़ टीम, आजमगढ़. आजमगढ़ जिले में शाहगंज से मऊ के लिए बन रही दोहरी रेलवे लाइन का निरीक्षण करने चीफ ऑफ रेलवे सेफ्टी (CRS) लतीफ खान और डीआरएम रामाश्रय पांडेय आजमगढ़ के फरिहां पहुंचे। रेलवे के स्पेशल सैलून से आजमगढ़ जिले में पहुंचे अधिकारियों को स्वागत किया गया। शाहगंज-मऊ रेलवे दोहरीकरण के काम के लिए 1200 करोड़ रूपए स्वीकृत हुए हैं। 100 किलोमीटर दोहरीकरण के पहले चरण में फरिहां से सठियांव तक 29 किलोमीटर दोहरीकरण का काम पूरा हो गया है। सेकेंड फेज में आगे काम किया जाएगा, जिसे एक वर्ष में पूरा कर लिया जाएगा।

CRS की स्वीकृति मिलते ही रात से दौड़ेगी रेल

दैनिक भास्कर से बातचीत करते हुए डीआरएम रामाश्रय पांडेय का कहना है कि शाहगंज-मऊ 100 किलोमीटर दोहरीकरण का कार्य स्वीकृत है। प्रथम चरण में फरिहां से सठियांव तक का काम पूरा हो गया है। इस पूरे काम का निरीक्षण करने आज हमारे चीफ ऑफ रेलवे सेफ्टी लतीफ खान और हम लोग आए हुए हैं। इस निरीक्षण के बाद किए गए कार्यों से यदि हमारे अधिकारी संतुष्ट होंगे तो अपनी स्वीकृति दे देंगे। स्वीकृति मिलते ही आज रात से ही रेलगाड़ियों का आवागमन शुरू हो जाएगा।

मालगोदाम का भी होगा शुभारम्भ

आजमगढ़ जिले में बने मालगोदाम को फरिहां में शिफ्ट हो गया है। इसको लेकर डीआरएम रामाश्रय पांडेय का कहना है कि हम लोग रेवले के मालगोदाम को मुख्य शहर से बाहर रखते हैं। इसका प्रमुख कारण यह है कि दिन में मालगोदाम तक ट्रक का मूवमेंट वैन रहता है। ऐसे में समस्या होती है। इसके साथ ही प्रदूषण भी बढ़ता है। आजमगढ़ से पहले बलिया का मालगोदाम बलिया से फेफना में शिफ्ट किया गया जबकि मऊ से भी मालगोदाम को बाहर करने की प्रक्रिया चल रही है। मालगोदाम की सुरक्षा के सवाल पर डीआरएम का कहना है कि जो सिक्योरिटी शहर में थी उससे भी अधिक सिक्योरिटी के इंतजाम यहां किए जा रहे हैं। जिससे किसी तरह की समस्या न होने पाए।

एक वर्ष में पूरा होगा बचा काम

डीआरएम रामाश्रय पांडेय ने बताया कि 1200 करोड़ की लागत से होने वाले इस 100 किलोमीटर दोहरीकरण में पहले फेज का 29 किलोमीटर कार्य पूरा हो गया है। बचे कार्यों को एक वर्ष के भीतर पूरा करा लिया जाएगा। इसको लेकर लगातार काम चल रहा है। इस अवसर पर वाराणसी मंडल के बड़ी संख्या में रेलवे के प्रशासनिक अधिकारी उपस्थित रहे।

दो दिन पूर्व उतरी थी पहली रैक

आजमगढ़ जिले के फरिहां में शिफ्ट हुए मालगोदाम में ट्रायल के रूप में दो दिन पूर्व पहली रैक उतरी थी। इस रैक में 42 वैगन में भरकर एफसीआई का चावल आया था। आज इस मालगोदाम का विधिवत शुभारम्भ हो गया। फरिहां में मालगोदाम के शुभारम्भ हो जाने से इस इलाके की जनता को इसका फायदा मिलेगा और रोजगार भी मिलेगा।

कोई टिप्पणी नहीं