Breaking News

आयुष्मान कार्ड बनाने में प्रदेश में पहले स्थान पर मऊ

मुल्क तक न्यूज़ टीम, मऊ. आयुष्मान भारत योजना के तहत गोल्डेन कार्ड बनाने के मामले में मऊ जनपद लगातार 6 दिनों से पूरे प्रदेश में पहले स्थान पर है। जिले में अब तक 14,243 गोल्डेन कार्ड धारी मरीजों ने लगभग 10 करोड़ रुपये का सरकार के खर्चे पर इलाज कराया है। प्रदेश के साथ गैर प्रदेशों में इस कार्ड के माध्यम से वे लाभ ले चुके हैं।

आयुष्मान भारत योजना के नोडल डॉ. बीके यादव ने बताया कि सरकार चाहती है कि प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री जन आरोग्य योजना से आच्छादित परिवारों के प्रत्येक सदस्य के पास आयुष्मान का गोल्डेन कार्ड होना अनिवार्य है। इस योजना ने बीते 23 सितंबर को चार वर्ष पूरा किया। इस दिन तक चार वर्ष बाद भी 27 फीसदी परिवारों में ही आयुष्मान कार्ड उपलब्ध हो पाया था। योजना से आच्छादित पात्र लाभार्थियों में से 27 फीसदी लाभार्थियों के ही आयुष्मान गोल्डेन कार्ड ही बन पाए थे। इसी को देखते हुए सरकार ने कैंप लगा के गोल्डेन कार्ड बनाने अभियान शुरू कराया। जिसके बाद जनपद बहुत ही तेजी से आयुष्मान कार्ड बनाने का कार्य शुरू हुआ।

75 जिलों में नंबर एक पर मऊ

आयुष्मान भारत योजना के जिला कार्यक्रम समन्वयक डॉ पीएन दुबे ने बताया कि जनपद में कुल लगभग 1,83,234 परिवार का आयुष्मान कार्ड बनाया जाना था। जिसको लेकर अब तक 1,00,203 परिवार का लगभग 2.57 लाख आयुष्मान कार्ड बनाए जा चुके हैं। लगभग 86 हजार परिवार का डाटा प्राप्त हुआ है। जिनका आयुष्मान कार्ड बनाये जाने का लक्ष्य है। इस कैंप में प्रतिदिन 8 से 10 हजार लोगों के गोल्डेन कार्ड बनाये जा रहे हैं जिसकी वजह से अपना जनपद प्रदेश के 75 जिलों में लगातार 6 दिनों से गोल्डेन कार्ड बनाने के मामले में पहले स्थान पर चल रहा है।

कोई टिप्पणी नहीं