Breaking News

मऊ में अब्बास अंसारी का सरेंडर, फिर जमानत

मुल्क तक न्यूज़ टीम, मऊ. मऊ में विधायक अब्बास अंसारी ने शुक्रवार को सरेंडर कर दिया है। अब्बास अंसारी को सिविल जज सीनियर डिवीजन की कोर्ट में अपने वकील के साथ पहुंचे। अब्बास पर विधानसभा चुनाव के दौरान आचार संहिता उल्लंघन का आरोप है। इसी मामले में वारंट भी जारी किया गया था।

विधायक अब्बास अंसारी को गुरुवार को सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव के सैफई आवास पर देखा गया था। गुरुवार को वह नेताजी मुलायम सिंह यादव को श्रद्धांजलि देने पहुंचे थे। अब्बास आर्म्स एक्ट में 55 दिन से फरार चल रहे थे। वह काफी देर तक अखिलेश के साथ उनके आवास पर रुके थे।

ट्वीट कर लिखा- नेताजी ने हमेशा हमारा हाथ थामे रखा

अब्बास सैफई पहुंचे हैं, यह बात तब सामने आई जब अब्बास ने अखिलेश के साथ अपनी तस्वीर ट्वीट की। ट्विटर पर अब्बास ने लिखा, "मेरे पिता के अभिभावक नेताजी को विनम्र श्रद्धांजलि। नेताजी ने हमेशा अभिभावक के रूप में हर हालात में हमारा मार्गदर्शन किया, हमारा हाथ थामे रखा।"

एक दिन पहले सुप्रीम कोर्ट ने गिरफ्तारी पर लगाई थी रोक

बाहुबली मुख्तार अंसारी के विधायक बेटे अब्बास को सुप्रीम कोर्ट से बुधवार को 4 हफ्ते की अंतरिम राहत मिली है। कोर्ट ने अब्बास अंसारी को आर्म्स एक्ट मामले में गिरफ्तारी पर अगले आदेश तक रोक लगा दी है। अब्बास के खिलाफ 14 जुलाई को लखनऊ कोर्ट ने एक लाइसेंस में कई हथियार लेने से जुड़े मामले में गैर जमानती वारंट जारी किया था। वह तब से फरार हो गए थे। यूपी पुलिस ने कई प्रदेशों में उनकी तलाश में छापेमारी की, लेकिन अब्बास को पकड़ नहीं पाए।

अब्बास अंसारी के मामले में सुप्रीम कोर्ट में राज्यसभा सांसद और वरिष्ठ वकील कपिल सिब्बल ने बहस की। बताया जा रहा है कि कोर्ट में कपिल सिब्बल ने कहा कि अब्बास राष्ट्रीय राइफल संघ के सदस्य हैं। उनके पास लाइसेंस है, लेकिन फिर भी यूपी में आपराधिक मुकदमे दर्ज कर लिए गए हैं। इसके बाद कोर्ट ने उनकी गिरफ्तारी पर अगले आदेश तक रोक लगा दी थी।

कोई टिप्पणी नहीं