Breaking News

फर्जी स्टेनो बनकर धमकाने वाला गिरफ्तार, सर्विलांस की मदद से दबोचा गया

मुल्क तक न्यूज़ टीम, मऊ. घोसी में आजमगढ़ कमिश्नर व मऊ डीएम का फर्जी स्टेनो बनकर धमकाने वाला आरोपी शुक्रवार को पुलिस के हत्थे चढ़ गया। वह बलिया का रहने वाला बताया जा रहा है। वह अफसर व मंत्री बनकर पुलिसकर्मियों व अन्य लोगों को धमकाकर उगाही करता था।

कोपागंज थाना क्षेत्र के लैरोदोनवार गांव के प्रधानपति व जिला पंचायत सदस्यों को धमकाने के आरोप में पुलिस को उसकी तलाश थी। सर्विलांस की मदद से कोपागंज थाना / स्वाट टीम इंचार्ज अमित मिश्रा व एसओजी ने उसे धर दबोचा। शुक्रवार की दोपहर 2:00 बजे के आसपास पुलिस अफसरों द्वारा उसे मीडिया के साथ ने पेश कर अधिकृत तौर पर खुलासा किया गया।

कई दिनों से थी पुलिस को तलाश

पुलिस के हत्थे चढ़े आरोपी ने विगत 31 जुलाई को लहरों दोनों वार के प्रधान पति बच्चे लाल राजभर के मोबाइल पर कॉल किया। उसने जिस मोबाइल से कॉल किया वह विनोद यादव डीजीपी बिहार का नाम दर्शा रहा था। उसने खुद को आजमगढ़ कमिश्नर का स्टेनो बताते हुए गांव के रास्ते का विवाद हल कराने का आदेश करा देने की बात कही।

मऊ डीएम का स्टेनो बनकर मांगी 25 हजार की रिश्वत

काम कराने के अवज में बैंक अकाउंट में 25000 रुपये रिश्वत मांगी थी। अगले दिन उसने दूसरे नंबर से फिर प्रधान पति को कॉल किया। यह नंबर खाद्य मंत्री का दर्शा रहा था। इस नंबर से फोन पर उसने खुद को मऊ डीएम का स्टेनो बताया। कमिश्नर का आदेश प्राप्त होने की बात कहते हुए सीडीओ व सीओ के जल्द ही मौके पर जाकर रास्ता निर्माण का मार्ग प्रशस्त करने की बात कही। साथ ही कमिश्नर के इस दोनों द्वारा उपलब्ध कराए गए खाते में मांगी गई रकम भेजने को कहा।

डीएम और एसपी से शिकायत के बाद आई तेजी

प्रधान पति को कॉल करने वाले पर संदेह होने पर उन्होंने यह जानकारी इंदारा के जिला पंचायत सदस्य जितेंद्र गोयल से साझा की। जितेंद्र गोयल ने उस नंबर पर कॉल किया तो आरोपी ने उनसे भी धमकी भरे लहजे में बात की। इससे खफा होकर जिला पंचायत सदस्यों के प्रतिनिधिमंडल ने डीएम व एसपी से मिलकर कार्रवाई की मांग की थी।

जिस पर एसपी द्वारा कोपागंज थाने में उक्त मामले में मुकदमा पंजीकृत कराया गया था। एसपी ने आरोपी की तलाश में एसओजी , स्वाट टीम व कोपागंज थाने की टीम को लगा रखा था। सर्विलांस से उसके मोबाइल की लोकेशन ट्रेस की जा रही थी। पीछे लगी पुलिस ने शुक्रवार को उसे धर दबोचा। इस संबंध में पूछे जाने पर थाना अध्यक्ष अमित मिश्रा ने उसकी गिरफ्तारी की पुष्टि की।

कोई टिप्पणी नहीं