Breaking News

मऊ सदर विधायक अब्बास अंसारी की संपत्तियों पर चलेगा बुलडोजर

मुल्क तक न्यूज़ टीम, मऊ. यूपी चुनाव के दौरान अखिलेश यादव के नाम पर पुलिस अधिकारियों को धमकी देने वाला मुख्तार अंसारी का बेटा अब्बास पुलिस से बचता घूम रहा है। लखनऊ पुलिस ने 81 स्पेशल कॉप अब्बास अरेस्टिंग के टास्क पर लगाए हैं। कोर्ट में उसको भगौड़ा घोषित करने और प्रॉपर्टी कुर्क करने के लिए अप्लीकेशन लगाई है। इस पर सुनवाई 25 अगस्त को होनी है। एक तरफ पुलिस सोर्स कहते हैं कि वो बिहार में छिपा है। नेपाल के रास्ते विदेश भागने की फिराक में है। दूसरी तरफ ईडी अब्बास अंसारी की संपत्तियों का ब्योरा जुटा रही है। अब्बास की संपत्तियों पर बुलडोजर कार्रवाई भी सकती है।

बिहार से लेकर महाराष्ट्र तक अब्बास को ढूंढा जा रहा

ADCP उत्तरी अनिल कुमार यादव अब्बास अरेस्टिंग के ऑपरेशन को लीड कर रहे हैं। उन्होंने बताया,"मुख्तार के गैंग के माइकल, जुगनू, सुरेंद्र कालिया, सुहैल के ठिकाने पर छापामारी हो रही है। अब्बास की तलाश में तीन टीम बिहार से लेकर महाराष्ट्र तक धरपकड़ में लगी है। वो देश छोड़कर भाग न जाए, इसलिए यूपी और बिहार से सटी नेपाल सीमा पर भी नजर रखी जा रही है।"

ADCP उत्तरी के मुताबिक हर टीम में 1 इंस्पेक्टर, 2 दरोगा और 7 सिपाही हैं। इन 8 टीम को 4 SCP लीड कर रहे हैं। इसमें ACP महानगर जया शांडिल्य, ACP गाजीपुर राजकुमार सिंह, ACP क्राइम पंकज श्रीवास्तव और ACP साइबर सेल दिलीप कुमार शामिल हैं। अब्बास की तलाश में लगी टीम उससे जुड़े लोगों पर नजर रखे हुए है।

72 ठिकानों तक पुलिस पहुंची, रिश्तेदार भी घर छोड़कर भागे

मुख्तार की पत्नी और साले की संपत्ति कुर्क कर बुलडोजर कार्रवाई हुई थी। अब चर्चा है कि अब्बास की संपत्ति पर भी बुलडोजर कार्रवाई हो सकती है। महानगर पुलिस ने अब तक अब्बास के विधायक निवास समेत 72 ठिकानों पर छापामारी कर चुकी है। बिहार, मुंबई, दिल्ली, गाजीपुर और मऊ में उससे जुड़े लोग भी घरों में ताला लगाकर गायब हो गए हैं।

मोबाइल सर्विलांस पर, घर वालों पर भी नजर

लखनऊ पुलिस की सर्विलांस टीम अब्बास से जुड़े 2 दर्जन लोगों के फोन सर्विलांस पर ले रखे है। ईडी उसकी संपत्ति का ब्यौरा जुटा रही है। अब्बास अंसारी पर 7 मुकदमे दर्ज हैं। इसमें लखनऊ के महानगर थाना में 1, हजरतगंज थाने में 1, गाजीपुर में 2 और मऊ में 3 मुकदमे दर्ज हैं।

अब्बास के भाषण का वीडियो वायरल होने पर हरकत में आई पुलिस

3 मार्च 2022 को मऊ के पहाड़पुर इलाके में अब्बास के भाषण की वीडियो क्लिप वायरल हुई थी। जिसमें अब्बास ने एक जनसभा के दौरान कहा था ''समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव जी से कहकर आया हूं कि छह महीने तक किसी की ट्रांसफर-पोस्टिंग नहीं होगी भइया। जो यहां है, यहीं रहेगा, पहले हिसाब-किताब होगा। उसके बाद उनके जाने के सर्टिफिकेट पर मुहर लगाया जाएगा।'' अब्बास का वीडियो वायरल होते ही लखनऊ तक खलबली मची थी। एडीजी लॉ एंड ऑर्डर प्रशांत कुमार ने इसका संज्ञान लिया और अधिकारियों को अब्बास के खिलाफ कार्रवाई का निर्देश दिया था।

मुख्तार अंसारी गाजीपुर का इंटरस्टेट गैंग 191 का लीडर है

अब्बास अंसारी का पिता मुख्तार अंसारी गाजीपुर के मुहम्मदाबाद का इंटर स्टेट गैंग 191 का लीडर है। इसके खिलाफ करीब 55 मुकदमा वर्ष 1978 से लेकर 2021 तक दर्ज हैं। इसके खिलाफ यूपी में गाजीपुर, वाराणसी, चंदौली, सोनभद्र, आगरा, लखनऊ, मऊ और बाराबंकी के थानों के साथ ही नई दिल्ली, पंजाब (मोहाली) के थानों में केस दर्ज हैं। जिसमें आईपीसी की गंभीर धाराओं के साथ ही गैंगस्टर अधिनियम, राष्ट्रीय सुरक्षा अधिनियम, मकोका एक्ट, टाडा आदि हैं।

कोई टिप्पणी नहीं