Breaking News

फल नहीं प्रसाद के रूप में खरीदे जाते हैं कटहल:एक दिन में ही बिक जाते हैं कई ट्रक कटहल, आज लगेगा मेला

मुल्क तक न्यूज़ टीम, मऊ. मऊ जनपद में एक ऐसा मेला लगता है। जहां कटहल फल के रूप में नहीं बल्कि प्रसाद के रूप में खरीदे जाते हैं। यही वजह है कि यहां मात्र एक दिन के मेला में ही कई ट्रक कटहल बिक जाते हैं। यही हाल खजला की भी है जो जयरीनों द्वारा मिठाई नहीं बल्कि मीरा शाह बाबा के प्रसाद के रूप में खरीदा जता है। बड़े पैमाने पर इसकी खरीदारी की जाती है। हम बात कर रहे हैं मऊ जनपद के मधुबन तहसील क्षेत्र अंतर्गत ग्राम सभा दरगाह स्थित महान संत सैयद मीरा शाह बाबा के मजार पर लगने वाले पाँचवीं बराम के मेला कि, जो कि 14 जुलाई गुरवार को आयोजित होगा।

कटहल के लगे ढेर

पांचवी मेला के एक दिन पूर्व यानी बुधवार को मेला स्थल पर जगह जगह कटहल के ढेर लगे हुए हैं। दूर दूर से कटहल लेकर बिक्री के लिए आए दुकानदार अच्छी बिक्री की उम्मीद कर रहे हैं, क्योंकि दो साल के अंतराल के बाद यहां मेला का आयोजन हो रहा है। कोरोना काल के कारण बीते दो सालों तक यहां मेला नहीं लग पाया था। यही हाल खजला की भी है। मेला स्थल पर खजला की एक दर्जन से अधिक दूकाने सजी हुई हैं।

फल नहीं प्रसाद के रूप में होती है खरीदाररी

मेला कमेटी के अध्यक्ष सैयद शबी अहमद ने बताया कि यहां एक कटहल 50 से 300 रूपये तक बिक जाते हैं। मेला में आए जयरीनों द्वारा कटहल खरीदने की प्रथा यहां सदियों से चली आ रही है। लोग इसे एक फल नहीं बल्कि बाबा के प्रसाद के रूप में खरीदते हैं और यही वजह है कि यहां कटहल की भारी बिक्री होती है।

महंगाई का दिख रहा असर

मेला स्थल पर खजला की दुकान सजाये विनोद का कहना था कि महंगाई सब पर हावी है। तेल के दाम बढ़ने से खजला के दाम भी बढ़ाने पड़े हैं। दो साल पूर्व मेला में 25 से 30 रूपये बिकने वाला खजला इस साल 40 एंव 50 में बिक रहा है। महंगाई को देखते हुए कटहल भी ऊंचे दाम पर बिकने की उम्मीद है।

मेला की तैयारियां पूरी

पांचवीं बराम के ऐतिहासिक मेला की तैयारियों में जुटे सोनू खान, राजेश राय, निबू लाल विश्वकर्मा, अशरफ अंसारी, शुकरुल्लाह, लियाक़त अली, अवधेश कुमार आदि का कहना था कि मेला की तैयारियां लगभग पूरी हो चुकी हैं। मौसम को देखते हुए जयरीनों के लिए शुद्ध पेयजल के विशेष इंतजाम किए गए हैं। मनोरंजन के लिए विभिन्न प्रकार के झूलों एवं सर्कस वालों ने अपनी दुकाने सजा ली हैं।

चुंकि 2 साल बाद मेला का आयोजन हो रहा है, इस लिए बड़ी भीड़ जुटने की संभावना है। मेला में सुरक्षा व्यवस्था को लेकर स्थानीय पुलिस प्रशासन भी पूरी तरह मुस्तैद है। थाना प्रभारी सौरभ राय ने बताया कि मेला के दिन मेला स्थल पर बड़ी संख्या में पुलिस बल की तैनाती की जाएगी।

कोई टिप्पणी नहीं