Breaking News

उत्तर प्रदेश में माफिया-अपराधियों की 844 करोड़ की अवैध संपत्ति जब्त

मुल्क तक न्यूज़ टीम, लखनऊ. कानून व्यवस्था के मामले में 100 दिन की उपलब्धियां गिनाते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आंकड़ों से यह संदेश भी देने का प्रयास किया कि भ्रष्टाचार और अपराध के खिलाफ जीरो टालरेंस की नीति पर भी सरकार ने अपनी रफ्तार बढ़ा दी है। उन्होंने दावा किया कि पहली बार ऐसा है, जब सड़क पर अलविदा की नमाज बंद हो गई। सड़क पर न ईद के कार्यक्रम होते हैं और न ही रामनवमी के। हालांकि, मुख्यमंत्री ने इस व्यवस्था को जनविश्वास, जनसहयोग और सामंजस्य का परिणाम बताया।

योगी सरकार-2.0 के 100 दिन पूरे होने पर सीएम ने कहा कि प्रदेश में कानून का राज स्थापित हो, इस दिशा में जो प्रयास किए गए, उससे उत्तर प्रदेश के बारे में लोगों की धारणा बदली है। सरकार ने 844 करोड़ रुपये की माफिया और पेशेवर अपराधियों की संपत्तियों को जब्त करके अपनी प्रतिबद्धता को एक बार फिर प्रस्तुत किया है। 2017 से अब तक 2,925 करोड़ रुपये की अवैध संपत्तियां जब्त की जा चुकी हैं। अवैध पार्किंग और टैक्सी स्टैंड हटाने के लिए इस अवधि में विशेष अभियान चलाया गया।

नगर निकायों ने मिलकर प्रदेश को व्यवस्थित स्वरूप दिया है। 68,700 से अधिक अतिक्रमण हटाए गए हैं और 76 हजार से अधिक अवैध पार्किंग स्थल मुक्त कर दिए। उन्होंने कहा कि यह पहली बार हुआ है कि धर्म स्थलों से माइक हट जाएं और अनावश्यक शोरगुल से लोगों को मुक्ति मिले। दावा किया कि 1,20,000 से अधिक लाउडस्पीकर हटाए गए या उनकी आवाज को कम किया गया। यह बिना किसी हो-हल्ला के स्वत:स्फूर्त भाव के साथ हुआ। यह जनविश्वास का ही प्रतीक है कि समाज के प्रत्येक तबके ने इस काम का पूरा समर्थन किया।

पाक्सो एक्ट के तहत अपराधियों को दिलाई सजा:

योगी ने कहा कि पाक्सो एक्ट के तहत अपराधियों को न केवल सजा दिलाई गई, बल्कि प्रभावी पैरवी कर उन्हें कठघरे में भी खड़ा किया गया। यह पहली बार हो रहा है जब प्रदेश में बड़े पैमाने पर अग्निशमन केंद्रों की स्थापना की जा रही है। 25 नवनिर्मित केंद्रों का लोकार्पण किया जा चुका है। हमारा प्रयास है कि अगले दो वर्ष में हर तहसील मुख्यालय में अग्निशमन केंद्र की स्थापना हो।

कोई टिप्पणी नहीं