Breaking News

बचपन का प्यार पाने के लिए इंजीनियर शौहर का कत्ल, बीवी ने आशिक को घर बुलाकर करवाया खून

मुल्क तक न्यूज़ टीम, पटना. शहनाज की शादी इंजीनियर से हुई थी लेकिन बचपन के प्यार से उसका संबंध शादी के बाद भी बना हुआ था. संबंध ऐसा कि उसके बच्चे भी अपने असली पिता को छोड़कर शहनाज के आशिक को ही अब्बू कहते थे, क्योंकि पति के जाते ही शहनाज आशिक को शौहर का दर्जा देती थी लेकिन कोरोना के कारण जब पति विदेश से वापस आया और शहनाज तथा उसके आशिक के बीच रोड़ा बना तो दोनों ने मिलकर ऐसी साजिश रची जिसे सुलझाने में पुलिस को एक-दो नहीं बल्कि पूरे 10 महीने लग गए. पटना पुलिस ने ईद से चंद दिन पहले हुई हत्या की वारदात को सुलझा लिया है. पटना के फुलवारीशरीफ इलाके में हत्या की इस घटना को कुकर से अंजाम दिया गया था और इंजीनियर पर कुकर से इतने वार किए गए थे कि उसने मौके पर ही दम तोड़ दिया था.

हत्या के बाद इस मामले से बचने के लिए पत्नी ने एक नई कहानी लिख दी लेकिन पुलिस की पैनी नजरों से भाग नहीं सकी. पुलिस ने इस केस में कातिल पत्नी के साथ उसके प्रेमी को भी गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है. ईद के एक दिन पहले 2 मई की रात तकरीबन दो बजे पटना के ही फुलवारी शरीफ थाना क्षेत्र के नौसा मुहल्ले में शहनाज परवीन नाम की महिला ने अपने बचपन के प्यार आशिक नन्हे उर्फ कमाल को पाने के लिए इंजीनियर पति जफरुद्दीन को मौत के घाट उतार दिया. इसके लिए कोई हथियार नहीं बल्कि घर में मौजूद कुकर का इस्तेमाल किया गया था.

पत्नी ने हत्या की इस वारदात को अंजाम देने के बाद अपने प्रेमी नन्हे उर्फ कमाल को घर से भगा दिया और फिर खुद एक कमरे में मृत पड़े पति को छोड़कर सोने चली गई थी. अगली सुबह उसने घर में चोरी होने की बात कही और चोरों पर ही हत्या का ठीकरा फोड़ा लेकिन पुलिस ने जांच की तो मामला कुछ और निकला. एएसपी फुलवरिशरीफ मनीष कुमार सिन्हा ने बताया कि परवीन ने जो साजिश रची उसी के तहत काम हो रहा था लेकिन पुलिस को यह बात हजम नहीं हो रही थी और पहले दिन से ही पुलिस पत्नी पर हत्या का शक कर रही था.

आरोपी पत्नी ने अपने बेटों को भी पट्टी पढ़ा रखा था कि उन्हें यह कहना है कि हत्या किसने की है यह नहीं देखा जबकि पिता की जब हत्या हो रही था तो इसका गवाह उसके दोनों बेटे भी थे. एएसपी मनीष कुमार सिन्हा ने बताया कि हत्यारन पत्नी ने अपने प्रेमी के साथ मिलकर यह साजिश दो दिन पहले फोन पर ही रची थी. मृतका का पति विदेश में रहता था और कोरोना काल में दिल्ली आ गया था जिसकी वजह से प्रेमी से प्रेमिका का मिलना मुश्किल हो गया था. इस दौरान पत्नी ने इंजीनियर पति से तलाक और खुल्ला करने को भी बोला लेकिन पति तैयार नहीं था.

शहनाज का पति जब ईद मानने दिल्ली से पटना आया तो उसे घर में ही मौत के घाट उतार दिया गया. पुलिस के मुताबिक पति एक महीने विदेश से आता था तो पति के तौर पर शहनाज एक महीने उसके साथ रहती थी और बाकी के 11 महीने प्रेमी को ही पति बनाकर सााथ रखती थी.

पुलिस को इस केस को सुलझाने में लगभग दस महीने लग गए और तब जाकर खुलासा हुआ कि हत्या आरोपी पत्नी शाहनाज परवीन और उसके साथ 6ठी कक्षा से ही पढ़ने वाले प्रेमी नन्हे उर्फ कमाल ने की थी. पुलिस ने उस मोबाइल को भी जब्त किया है जो आरोपी पत्नी अपने प्रेमी से ही सिर्फ बात करने के लिए रखी हुई थी.

कोई टिप्पणी नहीं