Breaking News

मऊ जिले के प्रत्येक विधानसभा में 50-50 करोड़ से बनेंगी सड़कें

मुल्क तक न्यूज़ टीम, मऊ. यूं तो जिलों को जोड़ने वाले मार्ग फोरलेन में तब्दील हो गए हैं। इसके साथ ही प्रदेश मुख्यालय को पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे जोड़ रहा है पर जिले की कनेक्टिग सड़कें जर्जर हालत में हैं। 

इसके पीछे सबसे बड़ा कारण रहा पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे व फोरलेन निर्माण में लगी निर्माण इकाइयों द्वारा धडल्ले से बड़े वाहनों के इन सड़कों का प्रयोग करना। आलम यह रहा कि सड़कें टूटकर जानलेवा बन गई हैं। लोक निर्माण विभाग प्रत्येक विधानसभावार 50-50 करोड़ की कार्ययोजना को बनाकर शासन को प्रेषित कर चुका है। बस अब विभाग को शासन की हां का इंतजार है। जिला मार्ग से लगायत ग्रामीण सड़कें जर्जर हालत में हैं। 

इसके सबसे बड़े कारक बने पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे व वाराणसी-गोरखपुर फोरलेन। इन मार्गों के निर्माण के लिए प्रतिदिन बड़ी तादाद में भारी वाहनों का छोटे मार्गों पर आवागमन होता रहा है। लगभग दो-तीन वर्षों तक भारी वाहनों के आए दिन होते रहे आवागमन से परदहा, रानीपुर, मुहम्मदाबाद गोहना, कोपागंज, घोसी आदि विकास खंड़ों की दर्जनों सड़कें तबाह हो गई। 

आलम यह हो गया कि यह सड़कें जानलेवा बन गई हैं। हालांकि इधर एक्सप्रेस-वे व फोरलेन का निर्माण पूर्ण होने के बाद लोक निर्माण विभाग ने जर्जर सड़कों की सुधि ली। प्रति विधानसभावार सर्वे कराकर जर्जर सड़कों की सूची तलब की गई। इसमें दो दर्जन सड़कों के निर्माण की कार्ययोजना बनाकर लखनऊ स्थित मुख्यालय को भेज दिया गया। अब विभाग को शासन की हरी झंड़ी का इंतजार है। शासन से स्वीकृति मिलते ही विभाग स्टीमेट बनाकर भेजेगा।

तीन करोड़ की लागत से सड़कों की होगी मरम्मत

लोक निर्माण विभाग प्रांतीय ने छोटी सड़कों की मरम्मत का प्लान तैयार कर लिया है। इसके लिए बांड भरने की कार्यवाही पूरी की जा रही है। लगभग 30 सड़कों की मरम्मत कराएगा। बारिश के पूर्व सड़कों को सुगम बनाने की कार्ययोजना बनी है।

विधानसभावार बड़ी सड़कों के मरम्मत की कार्ययोजना बनाकर मुख्यालय भेजा गया है। मुख्यालय से स्वीकृति मिलते ही कार्यवाही पूरी कर सड़कों का निर्माण शुरू करा दिया जायेगा।- रंजन सिंह, सहायक अभियंता, लोक निर्माण विभाग प्रांतीय खंड।

कोई टिप्पणी नहीं