Breaking News

मऊ में एक करोड़ हड़पने की साजिश का पर्दाफाश, विकास कार्यों के नाम पर हुआ फर्जीवाड़ा

मुल्क तक न्यूज़ टीम, मऊ. मऊ जनपद के फतहपुर मंडाव ब्लाक में विकास कार्यों के नाम पर फर्जीवाड़ा कर एक करोड़ 40 लाख रूपये हजम करने की रची गई साजिश का पर्दाफाश हो गया है। इसके बाद जिलाधिकारी मऊ द्वारा मामले की जांच के लिए तीन सदस्यों की कमेटी गठन के बाद ब्लॉक क्षेत्र में हलचल मचा हुआ है। हालांकि बीते सोमवार को जांच टीम फतेहपुर मंडाव ब्लॉक पहुंची थी, मगर तीन सदस्यों की टीम में एक सदस्य ब्लॉक प्रमुख दोहरीघाट के उपस्थित ना होने के कारण जाँच शुरू नहीं हो सकी थी। संभवतः अगले दो तीन दिनों में जाँच शुरू हो जाएगी।

ज्ञात हो कि बीते 8 जून 2022 को विभिन्न समाचार पत्रों में विकास खंड द्वारा निकाले गए टेंडर के आधार पर आधा दर्जन क्षेत्र पंचायत सदस्यों द्वारा प्रस्तावित 23 कार्यों पर सवाल खड़ा करने पर कैबिनेट मंत्री डा.संजय निषाद के निर्देश के बाद प्रशासनिक अमला अलर्ट हो गया है। जिलाधिकारी अरुण कुमार ने तीन सदस्यीय जांच टीम गठित कर दी है। इस टीम में डीसी मनरेगा, एई लघु सिंचाई व बीडीओ दोहरीघाट बताए जा रहे हैं।

यह है मामला पूरा मामला

फतहपुर मंडाव ब्लॉक के खंड विकास अधिकारी जयेश कुमार सिंह व प्रमुख मीनू सिंह की ओर से आठ जून को समाचार पत्रों में विज्ञापन निकलवाया गया। पूरे पन्ने के विज्ञापन में कराए जाने वाले 98 कार्यों का विवरण देख कई क्षेत्र पंचायत सदस्य दंग रह गए। वजह यह थी कि 23 ऐसे कार्यों का विवरण दिया गया था, जो मौके पर पहले से हो चुके हैं और चकाचक हैं।

प्रमाण के तौर पर दी है तस्वीर

क्षेत्र पंचायत सदस्य शैलेंद्र, अरविंद, बबिता देवी, सदानंद व शिवभोरी ने टेंडर के लिये प्रस्तावित कार्यों में पहले से हुए कार्यों पर हाईलाइटर से चिन्हित किया। खुद मौके पर जाकर सत्यापन किया। कुछ कार्यों की गूगल मैप से तस्वीरें तिथि व समय के साथ तस्वीरें खीची। इसके बाद सारा-लेखा जोखा लेकर मत्स्य विभाग के मंत्री डा.संजय कुमार निषाद के पास पहुंच गए।

मंत्री को बताई पूरी सच्चाई

क्षेत्र पंचायत सदस्यों ने मंत्री डा.निषाद को प्रमाण उपलब्ध कराते हुए शिकायती पत्र दिया। पत्र में बताया कि विगत 23 अप्रैल 2022 को फतहपुर मंडाव क्षेत्र पंचायत की बैठक हुई थी। ब्लाक प्रमुख मीनू सिंह की अनुपस्थिति के बावजूद बैठक का कोरम पूरा कर लिया गया, जो सीधे तौर पर पंचायत राज नियमावली का उल्लंघन है। इस बाबत बीडीओ को पत्र देकर शिकायत भी दर्ज कराई गई, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई। करोड़ों हड़पने की साजिश सुन मंत्री हैरान रह गये।

पुराने को नया दिखाकर भुगतान की तैयारी

क्षेत्र पंचायत सदस्यों ने मंत्री को बताया कि विगत आठ जून 2022 को बीडीओ व प्रमुख द्वारा दो समाचार पत्रों में 98 कार्यों का टेंडर प्रकाशित कराया गया। इसमें शामिल कुछ कार्य पूर्व में कराए जा चुके हैं। 23 कार्यों को इंगित करते हुए कहा कि उन्हीं कार्यों को नया दिखाकर भुगतान प्राप्त करने की तैयारी की जा रही है जबकि इन कार्यों की कुल लागत एक करोड़ 39 लाख 97 हजार रूपये बताई गई है। उन्होंने मौके पर सत्यापन कराते हुए करोड़ों रुपये सरकारी धन के दुरुपयोग को रोकते हुए टेंडर निरस्त करने की मांग की।

ग्राम्य विकास आयुक्त को दिया निर्देश

मंत्री डा.निषाद ने शिकायती पत्र पर ही ग्राम्य विकास आयुक्त को निर्देश जारी करते हुए 20 जून 2022 को उनके पास भेज दिया। मंत्री ने अपने निर्देश में लिखा कि प्रकरण की शीघ्र जांच कराएं। जांच के बाद आवश्यक कार्रवाई करने को कहा। साथ ही की गई कार्रवाई से खुद को भी अवगत कराने का निर्देश दिया। आयुक्त ने दिया जांच का आदेश ग्राम्य विकास आयुक्त जीएस प्रियदर्शी ने मंत्री का आदेश प्राप्त होते ही 22 जून को जिलाधिकारी व मुख्य विकास अधिकारी को जांच कराने का आदेश दिया। इस सूचना के होने के बाद से ही ब्लॉक् मुख्यालय में अफरा तफरी का माहौल बना हुआ है।

कोई टिप्पणी नहीं