Breaking News

मऊ जिले में फर्जी दस्‍तावेजों पर 4 शिक्षक कर रहे नौकरी, जांच रिपोर्ट निदेशालय भेजी गई

मुल्क तक न्यूज़ टीम, मऊ. शिक्षा विभाग में फर्जी कागजात पर शिक्षक बनने का खेल तो काफी दिनों से चल रहा है, लेकिन इसका अंत अभी तक नहीं हो सका है। इसकी जड़ें इतनी लंबी हैं कि विभाग भी पसीना बहा रहा है। आएदिन नए-नए कारनामे निकल कर सामने आ रहे हैं। एक बार फर शिक्षा विभाग सुर्खियों में आ गया है। यहां फर्जी कागजात के आधार पर चार फर्जी शिक्षक नौकरी कर रहे हैं। इस बात का खुलासा एसटीएफ की जांच में हुआ है। बीएसए ने ऐसे चार शिक्षकों के मामले में जांच रिपोर्ट शासन को भेजी है।

परिषदीय विद्यालयों में शिक्षकों की नियुक्ति को लेकर एसटीएफ को शिकायतें मिली थी। उसने जिले में फर्जी कागजात लगाकर नौकरी करने वाले चार शिक्षकों की पहचान की है। लेकिन इन शिक्षकों के खिलाफ एफआइआर दर्ज नहीं हुई है। बेसिक शिक्षा निदेशक ने जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी को ऐसे शिक्षको के खिलाफ 30 जून तक केस दर्ज कराने फरमान जारी किया है। निदेशक ने पत्र में लिखा है कि एसटीएफ ने आशंका जताई है कि संबंधित अधिकारी आरोपित शिक्षकों को अतिरिक्त समय दे रहे हैं। ऐसे में साक्ष्यों को खत्म किए जाने की संभावना है।

यही नहीं बेसिक शिक्षा विभाग के आदेशों की कमियों के कारण आरोपित शिक्षक उच्च न्यायालय से स्थगन आदेश प्राप्त कर नौकरी कर बेसिक शिक्षा अधिकारी की कृपा प्राप्‍त कर रहे हैं। अधिकारी स्थगन आदेश को शिक्षकों के खिलाफ मान रहे हैं लेकिन कार्रवाई न होने से अभी तक सभी की नौकरी चल रही है। निदेशक ने पत्र में लिखा है कि फर्जी कागजात लगाकर नौकरी कर रहे फर्जी शिक्षकों पर एसटीएफ ने आशंका जताई है। चार शिक्षकों के मामले में जांच संबंधित अधिकारी आरोपित शिक्षकों रिपोर्ट शासन को भेज दी गई है।

शिक्षा निदेशक का पत्र मिलने के बाद चार आरोपित शिक्षकों के मामले में जांच रिपोर्ट निदेशालय भेज दी गई है। जांच रिपोर्ट आने के बाद ही आगे की कार्रवाई की जाएगी। -डा. संतोष कुमार सिंह, जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी

कोई टिप्पणी नहीं