Breaking News

मध्य प्रदेश में दूल्हे को दहेज में 21 जहरीले सांप देता है दुल्हन का पिता, जानिए हैरान करने वाली है वजह

मुल्क तक न्यूज़ टीम, भोपाल. दहेज शब्द ही अपने आप में ही अपराधिक है। भारत में दहेज लेना कानूनी अपराध में आता है। भले ही देश में दहेज लेना अपराध है, लेकिन इसका प्रचलन अभी भी देश के ज्यादातर इलाकों में है। दहेज में पिता अपनी बेटी को अपनी हैसियत के हिसाब से तोहफे और कीमती सामान देते हैं, लेकिन क्या आपने सुना है कि किसी पिता ने अपनी बेटी को दहेज के रूप में जहरीले सांप दिए हों? क्या हुआ, चौक गए न सुनकर? मध्य प्रदेश में कई ऐसी जगह हैं, जहां लड़की का पिता लड़के वालों को दहेज के रूप में जहरीले सांप देते हैं।  

वर्षों से प्रचलित है ये प्रथा 

मध्य प्रदेश में एक गौरिया समुदाय निवास करता है। गौरिया समुदाय के लोगों के बीच ये प्रथा सदियों से प्रचलित है। गौरिया जनजाति में आने वाले लोग दहेज के रूप में अपने दामाद को 21 जहरीले सांप देते हैं। दरअसल, उनका मनाना है कि दहेज में सांप देने से बेटी के घर में खुशहाली आती है और पति-पत्नी का रिश्ता मजबूत होता है। गौरिया जनजाति के लोग ये भी मानते हैं कि जो लोग ऐसा नहीं करते हैं, उनका रिश्ता कमजोर हो जाता है और टूट जाता है।

आमतौर पर पिता अपनी बेटी की शादी का खर्च उठाने के लिए पैसे जुटाने लगता है लेकिन गौरिया समुदाय के लोग बेटियों का रिश्ता पक्का हो जाने के बाद दहेज देने के लिए सांप पकड़ना शुरू कर देते हैं। इस समुदाय के लोग दहेज में सबसे ज्यादा गेंहुअन प्रजाति के जहरीले सांप दामाद को देते हैं। आपको जानकर हैरानी होगी कि गौरिया जनजाति के लोग अपने घरों में भी सांप रखते हैं। इनके बच्चे जहरीले सांपों के साथ अक्सर खेलते दिख जाते हैं। 

सांप पकड़कर भरते हैं पेट

गौरिया समुदाय के लोग पेशे से सपेरे होते हैं। इस समुदाय के लोगों का काम सांप पकड़ना होता है। इसी से यह अपनी जीविका चलाते हैं। उनके जीवन यापन का जरिया सांप ही हैं। सबसे अहम बात यह है कि सांपों को सुरक्षित रखने के लिए इस समुदाय ने कड़े नियम बनाए हुए हैं। जिस तरह लोगों के घरो में बुजुर्गों की मौत के बाद लोग मुंडन करवाते हैं, वैसे ही सांप के मरने पर इस समुदाय के लोग अपना मुंडन करवाते हैं। साथ ही समुदाय के सभी लोगों को उस परिवार को भोज कराना पड़ता है।

कोई टिप्पणी नहीं