Breaking News

पत्नी को नहीं किया विदा तो पति ने सास-ससुर को चाकुओं से गोद डाला

मुल्क तक न्यूज़ टीम, खीरी. लखीमपुर खीरी जिले में दिल दहला देने वाली घटना सामने आई है। जिले के नीमगांव थाना क्षेत्र के बरुई में एक दामाद ने अपने ही सास-ससुर पर चाकुओं से जानलेवा हमला कर दिया। इससे दोनों लहूलुहान हुए है। सास ने मौके पर ही दम तोड़ दिया है। जबकि ससुर को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

नीमगांव थाना क्षेत्र के बरूई गांव के रहने वाले राम दुलारे (60) व उनकी पत्नी शांति देवी (55) पर के घर शुक्रवार की रात उसका दामाद मुकेश अपने एक साथी के साथ आया था। मुकेश की पत्नी नन्दी देवी ने बताया कि खाना खाने के बाद उसके माता-पिता गांव के बाहर वाले घर में सोने चले गए। कुछ देर बाद उसके पिता राम दुलारे खून से सने दौड़ते हुए आए और बताया कि मुकेश ने चाकुओं से हमला कर दिया है। परिवार के लोग दौड़कर गए तो देखा कि उसकी मां शांति देवी की जान चली गई है।

उन्होंने मौके पर ही दम तोड़ दिया। जबकि राम दुलारे को नाजुक हालात में जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। रामदुलारे के सीने पर चाकू से कई वार किए गए हैं। रात में एसपी संजीव सुमन व एएसपी अरुण कुमार सिंह ने घटना स्थल का मौका मुआयना किया। थानाध्यक्ष नीमगांव देवेन्द्र कुमार ने शव को पोस्टमार्टम के लिए जिला मुख्यालय भेज दिया है। मृतका की बेटी नन्ही देवी की तहरीर पर उसके पति मुकेश के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है।

पति-पत्नी की अनबन बनी शांति देवी की मौत की वजह

नीमगांव थाना क्षेत्र के बरुई गांव में शुक्रवार की रात घर में लेटे सास-ससुर पर दामाद ने चाकू से ताबड़तोड़ वार कर दिया। हमले में सास की मौके पर मौत हो गई व ससुर गम्भीर हालत में जिला अस्पताल में भर्ती है। पति पत्नी की अनबन ही शांति की मौत की मुख्य वजह बनकर सामने आई है। फिलहाल पुलिस पूरे मामले की जांच कर रही है।

नीमगांव थाना क्षेत्र के गांव बरुई में रामदुलारे का मकान बीच गांव में मकान है। सहन कम होने की वजह साधन खड़े करने के लिए एक मकान गांव के बाहर खेत में बना हुआ है। रामदुलारे के परिवार में 4 बेटियां व 3 बेटे हैं। दो बेटियों की शादी हो चुकी है। दूसरी बेटी नन्ही देवी की शादी थाना क्षेत्र मोहम्मदी के गांव महमूदपुर के मुकेश के साथ करीब 7 वर्ष पहले हुई थी। बताते है कि शादी के समय से ही नन्ही व मुकेश में आए दिन अनबन रहती थी। आपसी कलह की वजह से कई साल नन्ही अपनी ससुराल नहीं गई।

रामदुलारे ने अपनी बेटी नन्ही से दूसरी जगह शादी करने की बात कही। इस पर वह राजी नहीं हुई। सुलह समझौता होकर एकबार फिर नन्ही अपनी ससुराल गई। करीब छह माह पहले नन्ही ने एक बेटी को जन्म दिया। तभी फिर से दोनों में झगड़ा मारपीट शुरु हो गया। बताते है कि इसी कारण करीब 10 दिन पहले नन्ही अपने मायके बरुई आ गई थी। जिस दिन से नन्ही अपनी ससुराल से आई थी तभी से मुकेश फोन पर धमकियां दिया करता था।

घटना वाले दिन भी मुकेश ने अपने साले अंशुल को फोन कर परिवार को जान से मारने की धमकी दी थी। नन्ही ने बताया कि शुक्रवार रात करीब 10 बजे मम्मी पापा खाना खाकर खेत वाले घर पर सोने गए थे। हम सभी भाई बहन पुराने घर पर लेटे हुए थे। थोडी देर बाद पापा की रोने चीखने की आवाज सुनाई दी। हम लोग घर के बाहर आए तो देखा कि दरवाजे के सामने जमीन पर खून से लथपथ पड़े पापा रामदुलारे चिल्ला रहे थे कि मुकेश ने तुम्हारी मां को मार डाला है। हम लोग गांव वालों के साथ खेत वाले घर पर पहुंचे तो खून से लथपथ मां शांति देवी की लाश पड़ी थी।

कोई टिप्पणी नहीं