Breaking News

जनता राष्ट्रवाद और सुशासन के साथ, MLC चुनाव में प्रचंड जीत पर CM योगी

मुल्क तक न्यूज़ टीम, लखनऊ. भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने उत्तर प्रदेश विधान परिषद चुनाव में प्रचंड जीत हासिल की है। भाजपा ने 36 में से 33 सीटों पर जीत हासिल की है। विधानसभा चुनाव के बाद विधान परिषद में प्रचंड जीत हासिल करने के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि जनता राष्ट्रवाद और सुशासन के साथ है। उन्होंने चुनाव में जीते सभी उम्मीदवारों को बधाई दी है। इस जीत के बाद यूपी विधान परिषद में पहली बार भाजपा को बहुमत हासिल हो गया है।

सीएम योगी आदित्यनाथ ने ट्वीट किया, ''उत्तर प्रदेश के उच्च सदन के लिए नव निर्वाचित सभी सदस्यों को हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं!'' उन्होंने एक अन्य ट्वीट में कहा, ''आज उत्तर प्रदेश के स्थानीय प्राधिकारी विधान परिषद चुनावों में भाजपा की प्रचंड विजय ने दोबारा स्पष्ट कर दिया है कि आदरणीय प्रधानमंत्री जी के कुशल मार्गदर्शन और नेतृत्व में प्रदेश की जनता राष्ट्रवाद, विकास और सुशासन के साथ है।''

उत्तर प्रदेश विधान परिषद की स्थानीय प्राधिकारी क्षेत्र की 27 सीटों के द्विवार्षिक चुनाव में भाजपा ने बड़ी जीत हासिल की है। वहीं, मुख्य विपक्षी दल समाजवादी पार्टी (सपा) का सूपड़ा साफ होता हो गया है।  विधान परिषद की 36 सीटों के लिए हो रहे चुनाव में 9 सीटों पर भाजपा के विधान परिषद सदस्य (एमएलसी) पहले ही निर्विरोध चुने जा चुके हैं। बाकी 27 सीटों के लिए पिछले शनिवार को मतदान हुआ था। हाल में हुए विधानसभा चुनाव में लगातार दूसरी बार भारी बहुमत से जीती भाजपा का अब विधान परिषद में भी बहुमत हो गया है।  
     
स्थानीय प्राधिकरण निर्वाचन क्षेत्र के विधान परिषद चुनाव में ग्राम प्रधान, ग्राम पंचायत सदस्य, खंड विकास परिषदों के अध्यक्ष एवं सदस्य, जिला पंचायत अध्यक्ष और नगरीय निकायों के पार्षद मतदाता होते हैं। इसके अलावा विधायक और सांसद भी इस चुनाव में वोट डालते हैं। 

राज्य की 100 सदस्यीय विधान परिषद में इस समय भाजपा के 34, जबकि सपा के 17, बसपा के चार और कांग्रेस, अपना दल एवं निषाद पार्टी के एक-एक सदस्य हैं। वहीं, शिक्षक दल के दो, जबकि निर्दलीय समूह का एक और एक निर्दलीय सदस्य भी विधान परिषद में मौजूद है। राज्य विधान परिषद की 36 सीटें सात मार्च को संबंधित सदस्यों का कार्यकाल समाप्त होने के कारण रिक्त हो गई थीं। वहीं, सदन की 37वीं सीट नेता प्रतिपक्ष अहमद हसन के निधन की वजह से खाली हुई है।

कोई टिप्पणी नहीं