Breaking News

मैं नशे में हूं! राजस्थान के सरकारी स्कूल में शराबी और गालीबाज टीचर...

मुल्क तक न्यूज़ टीम, भरतपुर. शिक्षक जिनके ऊपर देश के बच्चों के भविष्य को बनाने की जिम्मेदारी होती है यदि वही शराब के नशे में धुत होकर पड़े रहे तो क्या होगा। ऐसा ही मामला धौलपुर जिले में सामने आया है । जब राज्य सरकार के सरकारी स्कूल में तैनात स्कूल शिक्षक क्लास में टेबल के नीचे शराब के नशे में धुत होकर पड़े मिले। 
मामला धौलपुर जिले में सेम्पउ तहसील के गांव वल्दियापुरा का है। यहां राजकीय उच्च प्राथमिक विद्यालय स्थित है। इसी स्कूल में तैनात स्कूल शिक्षक पप्पू कुशवाहा के बारे में बताया जा रहा है कि वो अक्सर शराब के नशे में धुत रहते हैं।

आज गुरुवार को भी जब स्कूल में वो बच्चों को पढ़ा रहे थे तब वो शराब के नशे में थे। थोड़ी ही देर में उनकी हालत ऐसी हो गई कि वो बच्चों को पढ़ाते-पढ़ाते शराब के नशे में धुत होकर अपने ही टेबल के नीचे जाकर सा गये।

गंभीर बात यह भी है कि जब बच्चों ने अपने टीचर को जगाया तो उसने बच्चों के साथ गाली गलौज शुरू कर दी। इस सूचना के बाद ग्रामीण मौके पर पहुंचे और शराबी शिक्षक के बारे में उपखंड अधिकारी ललित मीणा से शिकायत की।

शिकायत के बाद जिला शिक्षा अधिकारी एलीमेंट्री केदार गिरी के निर्देश पर ब्लॉक शिक्षा अधिकारी कृष्णा कुमारी मौके पर पहुंची और मामले की जांच शुरू कर दी।

क्या है ग्रामीणों का कहना

ग्रामीणों ने बताया कि स्कूल शिक्षक पप्पू कुशवाहा रोजाना शराब के नशे में धुत होकर स्कूल आता है। कई बार स्कूल के अंदर ही शराब पी लेता है और नशे में धुत होकर सो जाता है। जिसके चलते स्कूल में बच्चों के पढ़ाई खराब हो रही है व बच्चों पर गलत असर पड़ेगा।

स्कूल शिक्षक के नशे में धुत होकर पढ़ाई कराने और स्कूल में सोने की शिकायत कई बार उच्चाधिकारियों को की गई है। ग्रामीणों का कहना है कि हमने इस शिक्षक को स्कूल से हटाने की भी मांग की है लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हो सकी है। यह शिक्षक काफी लंबे समय से गांव के स्कूल में तैनात है। स्कूल के छात्रों का कहना है कि शराब के नशे में आने के बाद गुरुजी उन्हें गंदी-गंदी गालियां भी देते हैं।

क्या है अधिकारियों का कहना

जिला शिक्षा अधिकारी, (एलीमेंट्री धौलपुर) केदार गिरी ने बताया कि स्कूल में शिक्षक द्वारा शराब का नशा करना और नशे में धुत होकर क्लास के अंदर सो जाने की शिकायत मिली है। इस मामले की जांच के लिए ब्लॉक शिक्षा अधिकारी कृष्णा कुमारी को मौके पर भेजा गया। किसी भी शिक्षक द्वारा शिक्षा के मंदिर को बदनाम करने का प्रयास बिल्कुल सहन नहीं किया जाएगा। इस पूरे मामले की जांच रिपोर्ट आने के बाद शिक्षक के खिलाफ कठोर कार्रवाई की जाएगी।

कोई टिप्पणी नहीं