Breaking News

यूपी के उच्च सदन में बैठेगी पिता-पुत्र की जोड़ी, आजमगढ़-मऊ एमएलसी सीट पर पहली बार मऊ का कब्जा

मुल्क तक न्यूज़ टीम, मऊ. आजमगढ़-मऊ स्थानीय प्राधिकारी सीट पर पहली बार मऊ ने कब्जा जमाया है। यह कारनामा कर दिखाया छह वर्ष पूर्व सियासी सफर की शुरूआत करने वाले पूर्वांचल के बड़े नेताओं में शुमार पूर्व मंत्री एमएलसी यशवंत सिंह के पुत्र विक्रांत सिंह ‘रीशु’ ने। स्थानीय प्राधिकारी सीट पर दशकों से चले आ रहे आजमगढ़ के दबदबे को समाप्त करते हुए विक्रांत उच्च सदन पहुंच गए। अब प्रदेश की उच्च सदन में पिता-पुत्र की जोड़ी बैठेगी। जीत हासिल करने के बाद जनपद में पहुंचे विक्रांत सिंह का समर्थकों ने जगह-जगह स्वागत किया। चिरैयाकोट स्थित उनके आवास पर देर रात तक अबीर-गुलाल उड़ते रहे।

इंजीनियरिंग की पढ़ाई पूरी कर अपने पिता एमएलसी यशवंत सिंह व चाचा पूर्व ब्लाक प्रमुख अरूण सिंह के नक्शे कदम पर चलते हुए एमएलसी पुत्र विक्रांत सिंह ने 2015-16 के पंचायत चुनाव में पहली बार उतरे। जिला पंचायत की सुल्तानीपुर सीट पर विक्रांत ने लगभग 10 हजार मतों से एकतरफा बड़ी जीत दर्ज की। इस जीत के बाद विक्रांत की निगाहें जिला पंचायत अध्यक्ष की कुर्सी पर लगी थी कि अध्यक्ष का पद आरक्षित हो गया। इसके बाद बीते वर्ष हुए त्रि-स्तरीय पंचायत चुनाव में उनकी परंपरागत सुल्तानीपुर जिला पंचायत सीट फिर आरक्षित हो गई। इधर सुल्तानीपुर, सरसेना आदि सीट के आरक्षित हो जाने के चलते विक्रांत करहां से चुनाव लड़ने की तैयारी करने लगे।

इस चुनाव में भाजपा का सिंबल नहीं मिलने के चलते वे चुनाव नहीं लड़े। इसके बाद विक्रांत की निगाहें एमएलसी सीट पर टिक गई। लगभग एक वर्ष से वे लगातार तैयारी में जुटे थे। पंचायत चुनाव में जीत हासिल करने वाले सभी निर्वाचित प्रतिनिधियों से उन्होंने व्यक्तिगत मुलाकात किए थे। यही कारण रहा कि भाजपा का टिकट नहीं मिलने व पार्टी द्वारा पिता को छह वर्ष के लिए निलंबित किए जाने के बाद भी एकतरफा जीत हासिल कर इतिहास रचा। एमएलसी यशवंत सिंह की रणनीति के आगे आजमगढ़ के दिग्गज रमाकांत यादव की एक नहीं चल पाई। निर्दल विक्रांत ने भाजपा प्रत्याशी सपा विधायक रमाकांत यादव के बेटे अरुणकांत यादव व सपा के निवर्तमान एमएलसी राकेश यादव को हराते हुए पहली बार एमएलसी सीट पर मऊ का परचम लहराया।

सपा के हाथ से निकली सीट

आजमगढ़-मऊ स्थानीय प्राधिकारी सीट पर अभी तक आजमगढ़ का ही कब्जा रहा है। अखिलेश यादव की सरकार में इस सीट पर सपा के राकेश यादव गुड्डू निर्वाचित हुए थे। उसके पहले बसपा सरकार में बसपा के कैलाश यादव ने कब्जा जमाया था। इसके पूर्व सपा के कमला यादव व भीमा यादव इस सीट पर काबिज हुए थे। पहली बार मऊ जनपद के एमएलसी पुत्र ने इस पर जीत दर्ज की है।

समर्थकों ने बांटी मिठाई

आजमगढ़-मऊ एमएलसी के चुनाव में विक्रांत सिंह रीशु की जीत पर क्षेत्र में जगह-जगह मिठाई बंटी। गोठा बाजार में रीशु सिंह के समर्थक बीडीसी सदस्य, प्रधान राधे चौहान, राजेश राय, अभिषेक कुमार दूबे, चंद्रिका यादव सहित बड़ी संख्या में उपस्थित लोगों ने एक-दूसरे को मिठाई खिलाकर जीत की बधाई दी। जनपद के पहले व्यक्ति के रूप में निर्दल उम्मीदवार की बड़ी जीत पर लोगों मे खुशी है।

कोई टिप्पणी नहीं