Breaking News

मऊ में गलत बयान दर्ज कराने पर लेखपाल निलंबित, राजस्व कर्मियों में खलबली

मुल्क तक न्यूज़ टीम, मऊ. सूबे के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के दूसरे कार्यकाल का तेवर भांपते ही जिले के आला अधिकारी भी आरपार की कार्रवाई वाली कार्यशैली में आ गए हैं। अपने पद और दायित्व का दुरुपयोग करने वाले सरकारी कर्मचारियों चुन-चुन कर निशाना बनाया जा रहा है। 
 

गुरुवार को सदर तहसील के बहरीपुर गांव में स्थित एक भूमि के टुकड़े के संबंध में तहसीलदार न्यायालय में गलत बयान दर्ज कराने वाले बढुआगोदाम मंडल के इमिलियाडीह लेखपाल संदीप सिंह को जिलाधिकारी अरुण कुमार ने निलंबित कर दिया। डीएम की इस सख्त कार्रवाई से राजस्व कर्मियों में खलबली मची हुई है।


जिलाधिकारी अरुण कुमार ने बताया कि बहरीपुर निवासी जितेंद्रनाथ सिंह ने गाटा संख्या 290 रकबा 0.062 हेक्टेयर के संबंध में यह शिकायत दर्ज कराया था कि यह भूमि ग्राम सभा की संपत्ति और नवीन परती के खाते में अंकित है। विपक्षी सुरेंद्र सिंह इस गाटे में लगभग 40 एयर भूमि पर अवैध निर्माण कर कब्जा कर रहे हैं। 

इसी शिकायत व मुकदमें के संबंध में लेखपाल ने तहसीलदार को गलत बयान दर्ज करा दिया। शिकायतकर्ता की शिकायत पर जब इसकी जांच कराई गई तो लेखपाल का बयान सरासर गलत प्रमाणित हो गया। इसलिए मामले की गंभीरता को देखते हुए तत्काल प्रभाव से लेखपाल संदीप सिंह को निलंबित करने का निर्देश दिया गया है। उधर, इस कार्रवाई के बाद जिले भर के लेखपालों के कान खड़े हो गए हैं। गलत करने वाले लेखपालों की धड़कनें बढ़ गई हैं।

कोई टिप्पणी नहीं