Breaking News

CM योगी ने मां विंध्यवासिनी को चढ़ाया चांदी का छत्र, अद्भुत श्रृंगार को निहारा

मुल्क तक न्यूज़ टीम, मीरजापुर. चैत्र नवरात्र के दूसरे दिन रविवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ विंध्य दरबार पहुंचे। सीएम योगी ने मां विंध्यवासिनी का दर्शन-पूजन कर लोक कल्याण की कामना की। नारियल, चुनरी, माला-फूल प्रसाद के साथ मां विंध्यवासिनी का विधिवत पूजन किया और आशीर्वाद मांगा। सीएम योगी ने मां विंध्यवासिनी को साड़ी के साथ चांदी का छत्र भी चढ़ाया।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ वाराणसी से हेलीकाप्टर से मीरजापुर पहुंचे। मुख्यमंत्री के मीरजापुर आने का समय 2:45 बजे तय था। डेढ़ घंटे विलंब से सवा चार बजे पुलिस लाइन परेड मैदान पर मुख्यमंत्री का हेलीकाप्टर उतरा। मंडलायुक्त योगेश्वरराम मिश्र, डीआइजी आरके भारद्वाज, जिलाधिकारी प्रवीण कुमार लक्षकार, पुलिस अधीक्षक अजय कुमार सिंह आदि ने मुख्यमंत्री का स्वागत किया। इसके बाद मुख्यमंत्री सड़क मार्ग से कार से मां विंध्यवासिनी के दर्शन को विंध्याचल के लिए निकल पड़े। साढ़े चार बजे विंध्यधाम पहुंचे। गर्भगृह पहुंच मां विंध्यवासिनी का दर्शन-पूजन किया। नगर विधायक रत्नाकर मिश्र ने दर्शन-पूजन कराया। मां विंध्यवासिनी के दर्शन-पूजन के बाद मंदिर पर परिक्रमा कराया।

विंध्य कारिडोर व जल जीवन मिशन के निर्माण में तेजी लाने का दिए निर्देश

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ विंध्यधाम में मां विंध्यवासिनी के दर्शन के बाद विंध्य कारिडोर के निर्माण कार्य को गति देने का निर्देश दिया। उन्होंने अधिकारियों को हिदायत दी कि ऐसा निर्माण हो कि बाबा काशी विश्वनाथ की तर्ज पर मां विंध्यवासिनी धाम की अद्वितीय छवि निखरकर सामने आए। विंध्याचल मंडल के पठारी क्षेत्र के लोगों के पेयजल समस्या भी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के जेहन में थी, इसकी भी जानकारी आयुक्त योगेश्वर राम मिश्र से ली। उन्होंने कहा कि जल जीवन मिशन सरकार की प्राथमिकता पर है। इसे ससमय पूरा करना सुनश्चित करें। आयुक्त ने बताया कि जलजीवन मिशन के तहत हर घर को नल योजना से लोगों को शुद्ध पेयजल पहुंचाया जाएगा।

ब्रह्मचारिणी स्वरुप के दर्शन को उमड़े श्रद्धालु, नवाया शीश

चैत्र नवरात्र के दूसरे दिन रविवार को मां विंध्यवासिनी के भव्य व दिव्य स्वरुप का दर्शन कर भक्त निहाल हो उठे। ऐसा लगा मानो मां ने बुलाया हो। हर कोई आस्था के पथ पर बढ़ते जा रहा था। रविवार को छुट्टी का दिन होने के नाते श्रद्धालुओं की भीड़ अधिक थी। चिलचिलाती धूप के कारण भक्तों को थोड़ी दिक्कत हुई पर मां के दर्शन की लालसा में भक्त श्रद्धा-भाव से पंक्ति में खड़े रहे। रविवार भोर या देवी सर्वभूतेषु मां ब्रह्मचारिणी रूपेण संस्थिता, नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः, ब्रह्मचारिणी: हीं श्री अम्बिकायै नम: मंत्र के बीच विंध्यधाम गूंज उठा। कतारबद्ध श्रद्धालु घंटा-घड़ियाल व शंख, नगाड़ा के बीच मां विंध्यवासिनी का जयकारा लगा रहे थे। मां विंध्यवासिनी के ब्रह्मचारिणी स्वरुप का दर्शन पाकर भक्त निहाल हो उठे।

कोई टिप्पणी नहीं