Breaking News

घोसी में दो शिक्षकों से होगी वसूली, फर्जी शैक्षिक प्रमाण पत्र पर नौकरी ली थी - Mau News

मुल्क तक न्यूज़ टीम, मऊ. फर्जी शैक्षिक प्रमाण पत्र लगाकर नौकरी हथियाने की सत्यता उजागर होने के बाद बर्खास्त किये गये जिले के दो शिक्षकों से धन की वसूली होगी। धर्मानंद भारती को 13 साल और रामलाल यादव को 17 साल में उठाई गई तनख्वाह की पाई-पाई भरनी होगी। खंड शिक्षा अधिकारी इन पर साक्ष्य के साथ मुकदमा कराने की तैयारी में तो हैं ही। दोनों से धन की रिकवरी को कमेटी भी गठित की जाने वाली है।

21 मार्च को हुए बर्खास्त

घोसी तहसील क्षेत्र के भिखारीपुर प्राथमिक विद्यालय मे कार्यरत सहायक अध्यापक धर्मानंद भारती की नियुक्ति 12 फरवरी 2009 में हुई थी। वह नौकरी पाने को संपूर्णानंद संस्कृत विश्वविद्यालय का फर्जी शैक्षिक प्रमाण पत्र लगाया था। इसी तरह मधुबन तहसील क्षेत्र के बहादुरपुर उच्च प्राथमिक विद्यालय में फर्जी प्रमाण पत्र के आधार पर 2009 में रामलाल यादव ने नौकरी हासिल की थी। जांच के बाद बीएसए डा.संतोष सिंह ने 21 मार्च को बर्खास्त कर दिया था।

उन्होंने खंड शिक्षा अधिकारियों को दोनों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराने का निर्देश भी दिया है। बुधवार की शाम मीडिया से बातचीत के दौरान बड़रांव के खंड शिक्षा अधिकारी शशिकांत का कहना है कि नियुक्ति से लेकर अब -तक लिए गए सरकारी वेतन आदि की रिकवरी के लिए कमेटी बनाने की प्रक्रिया चल रही है। विभाग द्वारा एफआइआर दर्ज कराने की कानूनी प्रकिया भी चल रही है।

कोई टिप्पणी नहीं