Breaking News

भाजपा ने धर्म के साथ आस्था और विश्वास को भी बेचा - प्रियंका गांधी

मुल्क तक न्यूज़ टीम, लखनऊ. रामनगरी अयोध्या में बने रहे भव्य राम मंदिर के पास के क्षेत्र में नामचीन लोगों के जमीन की खरीद में घोटाले के प्रकरण पर कांग्रेस ने भारतीय जनता पार्टी की सरकार पर जोरदार हमला बोला है। कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने पार्टी के प्रवक्ता रणदीप सूरजेवाला ने मीडिया को संबोधित किया और भारतीय जनता पार्टी पर गंभीर आरोप लगाए।

अयोध्या में राम मंदिर के लिए जमीन खरीद के मामले में घपले में भाजपा नेताओं, आइएएस अफसर, आइपीएस अफसर तथा महापौर का नाम आने के बाद भले ही सरकार ने पांच दिन में ही जांच का आदेश दिया हो, लेकिन इस मामले में विपक्षी दलों ने भाजपा को आड़े हाथ लिया है। इसी को लेकर कांग्रेस ने भी हमला बोला। कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी ने कहा कि राम मंदिर के लिए पूरे देश ने सहयोग किया। देश के लोगों ने आस्था से चंदा दिया है। इसके बाद भी जमीन खरीदने में घोटाला किया गया। उन्होंने कहा कि अयोध्या के जिलाधिकारी रहे अधिकारी, मेयर, भाजपा विधायक तथा उनके परिवार के लोगों ने सस्ती जमीनों को खरीदकर श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट को कम ही समय में दो गुणे और तीन गुणे दाम पर बेचा।

प्रियंका ने कहा कि अयोध्या में भाजपा राम मंदिर के आसपास की जमीन पर लूट में लगी हुई है। भाजपा के नेता, पदाधिकारी और सरकारी अधिकारी लूट में मिले हुए हैं। भगवान राम नैतिकता के प्रतीक थे और आप उनके नाम पर भी भ्रष्टाचार कर रहे हैं, पूरे देश की आस्था पर चोट पहुंचा रहे हैं। उन्होंने कहा कि दलितों की जो जमीन खरीदी नहीं जा सकती थी वो खरीदी व हड़पी गई और कुछ जमीनें ट्रस्ट को बहुत ज्यादा पैसों के लिए बेची गईं। चंदे के पैसों के साथ घोटाला किया गया है। प्रियंका गांधी ने कहा कि भाजपा की किसी भी सरकार में आस्था का सम्मान नहीं है। लोगों ने अपने घर की जमा-पूंजी को मंदिर बनाने के लिए चंदा के रूप में दिया है। करोड़ों लोगों ने राम मंदिर के निर्माण के लिए चंदा दिया है। इसके बाद भी मंदिर के निर्माण के नाम पर जमीन को खरीदने और बेचने का काम चल रहा है।

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने कहा कि भाजपा के नेता धर्म व आस्था के साथ विश्वास को बेच मुनाफे की लूट में लगे हैं। राम मंदिर के नाम पर एकत्र हजारों करोड़ रुपया की चोरी का मामला सामने आ गया है। चंदा की चोरी करने वालों को प्रधानमंत्री तथा मुख्यमंत्री बचा रहे हैं। राम मंदिर के लिए जमीन खरीद में सिर्फ पांच मिनट में 1300 प्रतिशत की चपत लगाई गई।

अयोध्यापति मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान राम के नाम पर सारी मान-मर्यादा को ताक पर रखकर राम मंदिर के चंदे की लूट का खेल खेला जा रहा है। भगवान श्री राम तो हैं ही वचनों की मर्यादा, त्याग और नैतिकता। इसे दरकिनार कर भाजपाई नेजाओं, उनके मित्रों व राम मंदिर निर्माण ट्रस्ट के नुमाईंदों ने चंदे की लूट का खेल किया। श्री राम मंदिर निर्माण के लिए एकत्रित हुए चंदे का घ्रणित दुरुपयोग व मंदिर की जमीन खरीदने में करोड़ों का घोटाला अब जगजाहिर है।

कोई टिप्पणी नहीं