Breaking News

मुजफ्फरपुर की शाही लीची के बाद भागलपुर का जर्दालु आम भेजा गया लंदन, दिल्ली के रास्ते जाएगा विदेश

मुल्क तक न्यूज़ टीम, पटना. मुजफ्फरपुर की शाही लीची के बाद अब भागलपुर के प्रसिद्ध जर्दालु आम को लंदन निर्यात किया गया है। करीब एक हजार किलोग्राम जर्दालु आम को भागलपुर से लखनऊ-नई दिल्ली के रास्ते लंदन निर्यात किया गया। इससे पहले एक हजार किलोग्राम शाही लीची भी लंदन निर्यात की गई थी। सोमवार को कृषि मंत्री अमरेंद्र प्रताप सिंह ने वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से हरी झंडी दिखाकर जर्दालु आम को बिहार से लंदन के लिए रवाना किया।

कृषि मंत्री ने निर्यातक इनवेस्ट इंडिया, भारतीय उच्चायोग, लंदन एवं एपीडा द्वारा बिहार से जर्दालु आम के व्यावसायिक निर्यात में सहयोग करने के लिए आभार प्रकट किया। उन्होंने बताया कि जर्दालु आम का मुख्य क्षेत्र भागलपुर है, जहां करीब 12 सौ हेक्टेयर में इसका बाग है। इसके अलावा बांका एवं मुंगेर जिलों में भी इसका क्षेत्रफल बढ़ रहा है। 


कृषि विभाग बना रहा निर्यात नीति

कृषि विभाग के सचिव डा. एन सरवण कुमार ने बताया कि शीघ्र ही राज्य की अपनी निर्यात नीति होगी, जिससे आने वाले वर्षों में बिहार के विशेष भौगोलिक उत्पाद के साथ-साथ सब्जियों का निर्यात अधिक मात्रा में किया जा सकेगा। निर्यात के लिए आवश्यक मान्यता प्राप्त एनएबीएल लैब को राज्य के दोनों कृषि विश्वविद्यालयों में स्थापित करने की कार्रवाई की जा रही है। 


पीएम ने मन की बात में किया था लीची का जिक्र

बता दें कि पिछले दिनों प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बिहार की शाही लिजी का जिक्र मन की बात कार्यक्रम में किया था। पीएम मोदी ने कहा था कि देश ने बिहार की शाही लीची का नाम जरूर सुना होगा। सरकार ने 2018 में शाही लीची को जीआइ टैग दिया था। मोदी ने कहा था कि इसकी पहचान मजबूत हो और किसानों को जायदा फायदा हो, इसके लिए लीची हवाई मार्ग से लंदन भेजी गई है। बिहार के मुजफ्फरपुर की शाही लीची को सरकार द्वारा फाइटोसेनेटरी सर्टिफिकेट जारी किया गया है। लंदन को पांच क्विंटल लीची का निर्यात किया गया। सात  क्विंटल शाही लीची दुबई भेजी गई। 

कोई टिप्पणी नहीं