Breaking News

आज सेना में शामिल होंगे 333 युवा अफसर, आईएमए देहरादून में परेड शुरू

देहरादून। उत्तराखंड के देहरादून स्थित भारतीय सैन्य अकादमी (आईएमए) से पास आउट होकर आज 333 युवा भारतीय थल सेना में अफसर बन जाएंगे। शनिवार सुबह आईएमए देहरादून में पासिंग आउट परेड हुई जिसमें 423 अफसरों ने हिस्सा लिया। इनमें से 90 जेंटलमैन कैडेट्स नौ अलग-अलग देशों के हैं।
पिछले वर्षों की तरह इस बार यूपी के सबसे ज्यादा 66 कैडेट पास आउट होंगे। हालांकि उत्तराखंड ने भी शीर्ष में जगह बनाई है। उत्तराखंड से इस बार 31 कैडेट सेना में अफसर बन रहे हैं। उत्तराखंड-बिहार के साथ संयुक्त रूप से तीसरे नंबर पर है। दूसरे नंबर पर 39 कैडेट के साथ हरियाणा है।

थल सेना अध्यक्ष जनरल मनोज मुकुंद नरवाने की मौजूदगी में चैटवुड हॉल के ड्रिल स्क्वायर पर कदमताल के बाद कैडेटों को भारतीय सेना की शपथ दिलाई जाएगी। इस बार कोरोना संक्रमण के चलते परेड की भव्यता कम रहेगी। कैडेटों के परिजन परेड में शामिल नहीं हो पाएंगे। वहीं कैडेट इस बार छुट्टी में अपने घरों को लौटने के बजाय अपनी-अपनी कमान में रिपोर्ट करेंगे।

परिवार की परंपरा को आगे बढ़ाएंगे सागर
उत्तराखंड के युवा सेना में बढ़-चढ़कर शामिल होने की परंपरा हो आगे बढ़ा रहे हैं। कई परिवार ऐसे हैं, जहां आज भी पीढ़ी दर पीढ़ी सेना में शामिल होने की परंपरा चली आ रही है। इस कड़ी में दून के सागर पालीवाल का नाम भी शामिल हो गया है। नथुवावाला पुष्प विहार निवासी सागर पालीवाल भी आज आईएमए से पास आउट होकर अफसर बन जाएंगे। उनके पिता ऑनरेरी कैप्टन राजेंद्र प्रसाद 8वीं गढ़वाल राइफल में तीन दशक की सेवा के बाद रिटायर हुए। मां दीपा पालीवाल एक गृहणी हैं।

माता-पिता ने बताया कि उसमें बचपन से ही सेना में जाकर देश सेवा करने का जनून था। सैनिक स्कूल घोड़ाखाल से पढ़ाई के बाद सागर का एनडीए में चयन हो गया। वह कहते हैं कि सेना में अफसर बनकर उसने परिवार ही नहीं क्षेत्र का नाम रोशन किया है। नानी कलादेवी, बुआ कमली भट्ट को भी सागर पर नाज है। हालांकि कोरोना के कारण इस वर्ष पासिंग आउट परेड में न जा पाने का मलाल भी है। वह कहते हैं कि टीवी पर लाइव प्रसारण देख वह इस लम्हे का अनुभव करेंगे।

नेपाल के तीन कैडेट भी शामिल
एक तरह जहां नेपाल सीमा पर इन दिनों तल्खी चल रही है, वहीं आईएमए से तीन नेपाली कैडेट पास आउट होकर भारतीय सेना में अफसर बनेंगे। भारतीय सेना में नेपाली नागरिकों को मौका दिया जाता है। इसके तहत ही इनका चयन हुआ और शनिवार को यह अफसर बन जाएंगे।

कोई टिप्पणी नहीं