Breaking News

Vizag Gas Leak: हादसे में मरने वालों की संख्या बढ़कर 11 हुई, 800 लोग अस्पताल में भर्ती

विशाखापट्टनम, एएनआइ/प्रेट्र। आंध्र प्रदेश के विशाखापट्टनम में एक फैक्ट्री में आज सुबह गैस रिसाव होने से एक बड़ा हादसा हो गया। गैस लीक होने की घटना में अब तक 11 लोगों की मौत हो चुकी है। विशाखापट्टनम के आरआर वेंकटपुरम गांव में एक फैक्ट्री में गैस रिसाव की यह घटना सामने आई। आरआर वेंकटपुरम गांव की एलजी पॉलिमर उद्योग में स्टाइरीन(Styrene) गैस रिसाव से हुए हादसे में एक बच्चे सहित कम से कम 11 लोगों की मौत हो चुकी है।इस हादसे के बाद 800 लोगों को अस्पताल में भर्ती कराया गया।
- गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपाणी के निजी सचिव अश्वनी कुमार ने जानकारी दी है कि विशाखापट्टनम संयंत्र में गैस रिसाव को बेअसर करने के लिए आंध्र प्रदेश सरकार द्वारा दमन से 500 किलो पैरा-तृतीयक ब्यूटाइल कैटेचोल (PTBC) रसायन का एयरलिफ्ट किया जाएगा।

जानिए क्या होती है पीवीसी या स्टाइरीन गैस, विशाखापट्टनम में जिसके शिकार हुए 800 लोग

- समाचार एजेंसी पीटीआइ ने जानकारी दी है कि विशाखापत्तनम गैस रिसाव हादसे में मारे गए लोगों के परिजनों को राहत देने के लिए आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री वाई एस जगनमोहन रेड्डी ने एक करोड़ रुपये की सहायता राशि की घोषणा की। इसके अलावा हादसे में घायलों को नकद सहायता दी जाएगी। 


- राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल (NDRF) के महानिदेशक एसएन प्रधान ने जानकारी दी है कि विशाखापट्टनम गैस लीक हादसे में मरने वालों की संख्या बढ़कर 11 हो गई है।NDRF के महानिदेशक एसएन प्रधान ने बताया कि फैक्ट्री से हो रहा लीकेज अब कम से कम है, लेकिन एनडीआरएफ तब तक रहेंगी जब तक यह पूरी तरह से खत्म नहीं हो जाता है।


- हादसे पर राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण(National Disaster Management Authority) ने प्रेस ब्रीफिंग के दौरान बताया कि यह एक रासायनिक आपदा है, प्रतिक्रिया के लिए रासायनिक पक्ष पर, रासायनिक प्रबंधन पक्ष पर, चिकित्सा पक्ष के साथ-साथ निकासी पक्ष पर विशेषज्ञता की आवश्यकता होती है।प्रधानमंत्री ने मीटिंग में इस बात का जायजा लिया कि बोर्ड की प्रतिक्रिया क्या होनी चाहिए।

- आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री वाईएस जगन मोहन रेड्डी ने विशाखापट्टनम के किंग जॉर्ज अस्पताल में भर्ती लोगों से मुलाकात की।


- विशाखापट्टनम डिस्‍ट्रिक्‍ट मेडिकल व हेल्‍थ ऑफिसर तिरुमाला राव ने बताया कि इस गैस लीक की दुर्घटना में नौ लोगों की मौत हुई और 300 लोगों को विभिन्‍न अस्‍पतालों में भर्ती कराया गया है।

- राष्‍ट्रीय मानवाधिकार आयोग (National Human Rights Commission,NHRC) ने आंध्र प्रदेश सरकार व केंद्र को इस घटना पर नोटिस जारी कर दिया।

- विखाखापट्टनम गैस लीक हादसे के बाद अस्पताल में भर्ती मरीजों की मदद के लिए नौसेना आगे आई है। भारतीय नौसेना ने जानकारी दी कि विशाखापट्टनम के किंग जॉर्ज अस्पताल को 5 और पोर्टेबल मल्टी-फीड ऑक्सीजन मैनिफोल्ड सेट प्रदान किए गए। नेवल डॉकयार्ड, विशाखापत्तनम से तकनीकी दल आज सुबह बड़ी संख्या में रोगियों को ऑक्सीजन प्रदान करने के लिए और सहायता करने के लिए अस्पताल में मौजूद है।

नौसेना के मुताबिक पोर्टेबल मल्टीफ़ेड ऑक्सीजन मैनिफोल्ड सिस्टम को COVID-19 महामारी के लिए छह रोगियों को ऑक्सीजन की आपूर्ति करने के लिए एक जंबो आकार ऑक्सीजन बोतल को सक्षम करने के लिए डिज़ाइन किया गया था। COVID नामित अस्पतालों में उपयोग के लिए जिला प्रशासन को 25 ऐसे सेट प्रदान किए गए थे।

- प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के प्रधान सचिव डॉ. पीके मिश्रा ने विशाखापट्टनम गैस लीक मामले की स्थिति को लेकर कैबिनेट सचिव, गृह सचिव, NDMA, NDRF, एम्स के निदेशक और चिकित्सा विशेषज्ञों के साथ एक उच्च-स्तरीय समीक्षा बैठक की।

पीएम के प्रधान सचिव डॉ. पीके मिश्रा ने विशाखापत्तनम में विशेषज्ञों की टीम भेजने का निर्देश दिया है और राहत, बचाव और अल्पावधि के साथ-साथ दीर्घकालिक चिकित्सा प्रभाव के लिए भी उपाय किए हैं। आज दोपहर 2.15 बजे दिल्ली में नेशनल मीडिया सेंटर में इसको लेकर एक विस्तृत प्रेस ब्रीफिंग आयोजित होगी।

- भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली ने विशाखापट्टनम गैस लीक हादसे में मारे गए लोगों के परिवारों के प्रति संवेदना जताई है।कोहली ने ट्विटर पर लिखा कि विशाखापट्टनम गैस लीक में अपने प्रियजनों को खोने वाले परिवारों के प्रति मेरी संवेदना। अस्पताल में सभी के प्रभावितों के ठीक होने की प्रार्थना।

- कर्नाटक के मुख्य़मंत्री बीएस येदियुरप्पा ने इस हादसे पर दुख जताया है। उन्होंने ट्विटर पर लिखा कि उसका मेरे विचार और प्रार्थना प्रभावित परिवारों के साथ हैं।विशाखापत्तनम में हुई घटना से बेहद दुखी हूं।

- आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री वाईएस जगन मोहन रेड्डी विशाखापट्टनम के लिए रवाना हो गए हैं। वह किंग जॉर्ज अस्पताल जाएंगे, जहां वह अस्पताल में भर्ती लोगों से मिलेंगे।

- आंध्र प्रदेश के डीजीपी दामोदर गौतम सवांग ने कहा कि विशाखापट्टनम गैस लीक एक हादसा है। कंपनी सभी प्रोटोकॉल का सख्ती से पालन कर रही थी। फिलहाल इसकी जांच चल रही है।घटनास्थल पर फॉरेंसिक टीम भी भेजी जा रही है।

- आंध्र प्रदेश के DGP दामोदर गौतम सवांग ने जानकारी दी है कि विशाखापट्टन गैस लीक हादसे में अब तक 8 लोगों की मौत हो चुकी है।डीजीपी ने जानकारी दी कि गैस पर काबू पा लिया गया है। लगभग 800 को अस्पताल में भर्ती किया गया, कई को छुट्टी दे दी गई। यह कैसे हुआ, इसकी जांच की जाएगी।

- आंध्र प्रदेश के उद्योग मंत्री एमजी रेड्डी ने बताया कि कारखाने में गैस रिसाव की सूचना के बाद, लॉकडाउन प्रक्रिया तुरंत शुरू की गई थी।स्थानीय प्रशासन को सूचित किया गया।गैस को तुरंत हानिरहित तरल रूप में बेअसर किया गया।लेकिन थोड़ी गैस, फैक्ट्री परिसर से बाहर निकलकर आस-पास के इलाकों में पहुंच गई, जिससे लोग प्रभावित हो गए।

उन्होंने कहा कि जो कंपनी इसे प्रबंधित कर रही थी, उसे इस घटना के लिए जिम्मेदार होना चाहिए। उन्हें आगे आना होगा और हमें यह बताना होगा कि किन प्रोटोकॉल का पालन किया गया था और किनका पालन नहीं किया गया था। तदनुसार, उनके खिलाफ आपराधिक कार्रवाई की जाएगी।


- प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने विशाखापट्टनम की स्थिति के मद्देनजर एनडीएमए (राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण) की बैठक बुलाई है। केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह भी इस बैठक में मौजूद हैं।


- एनडीआरएफ प्रमुख ने बताया है कि विशाखापट्टनम में गैस रिसाव की घटना एक प्लास्टिक फैक्ट्री में सामने आई। इस फैक्ट्री को लॉकडाउन के दौरान बंद कर दिया गया था। इसे फिर से खोलने की तैयार की जा रही थी।

- राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने विशाखापट्टनम गैस लीक घटना पर दुख जताया है। उन्होंने कहा कि विशाखापट्टनम के पास एक संयंत्र में गैस रिसाव की खबर से दुखी, जिसने कई लोगों की जान ले ली। पीड़ित परिवारों के प्रति मेरी संवेदना। मैं घायलों के ठीक होने और सभी की सुरक्षा के लिए प्रार्थना करता हूं।


- हादसे पर दुख जताते हुए भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा ने कहा कि गैस लीक घटना के बारे में सुनकर गहरा दुख हुआ। मृतकों के परिवारों के प्रति मेरी गहरी संवेदनाएं, मैं सभी की सलामती की प्रार्थना करता हूं। मैं पार्टी कार्यकर्ताओं से स्वास्थ्य प्रोटोकॉल का पालन करते हुए प्रशासन के साथ समन्वय में हर संभव राहत प्रदान करने का अनुरोध करता हूं।

याद आया भोपाल गैस त्रासदी

1984 में 2-3 दिसंबर की रात को भोपाल स्थित यूनियन कार्बाइड की फैक्ट्री से मिथाइल आइसोसाइनेट (एमआइसी) नामक जहरीली गैस का रिसाव हुआ था। इस जहरीले गैस के रिसाव के कारण तीन हजार से अधिक लोगों की मौत हो गई थी। 

- एनडीआरएफ (राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल) के महानिदेशक एसएन प्रधान ने बताया कि स्थानीय लोगों ने गले और त्वचा में जलन और कुछ विषाक्त संक्रमण की सूचना दी, फिर पुलिस और प्रशासन हरकत में आया। लगभग 1000-1500 लोगों को निकाला गया है, जिनमें से 800 से अधिक लोगों को अस्पताल ले जाया गया है।

- विशाखापट्टनम में हुए गैस रिसाव की घटना पर राज्यपाल ने दुख जताया है। उन्होंने अधिकारियों को युद्ध स्तर पर बचाव अभियान चलाने का आदेश दिया है। राज्यपाल ने बचाव अभियान में रेड क्रॉस स्वयं सेवकों की सेवाओं का लाभ उठाने का सुझाव दिया। उन्होंने विशाखापट्टनम रेड क्रॉस यूनिट को चिकित्सा शिविरों का गठन करने का आदेश दिया है।


- विशाखापट्टनम की स्थिति को लेकर पीएम नरेंद्र मोदी ने आंध्र प्रदेश के सीएम वाईएस जगनमोहन रेड्डी से बात की है। प्रधानमंत्री कार्यालय ने जानकारी देते हुए बताया कि उन्होंने बातचीत के दौरान सभी तरह की मदद और सहायता का आश्वासन दिया है।


- केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा है कि विशाखापट्टनम में हुई घटना परेशान करने वाली है। एनडीएमए के अधिकारियों और संबंधित अधिकारियों से बात की है। हम स्थिति पर लगातार और बारीकी से नजर रख रहे हैं। मैं विशाखापट्टनम के लोगों की भलाई के लिए प्रार्थना करता हूं।


- एनडीआरएफ डीजी ने समाचार एजेंसी एएनआइ से कहा कि कुल 27 व्यक्ति एनडीआरएफ (राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल) द्वारा किए जा रहे राहत और बचाव अभियान में शामिल हैं, जो गैस रिसाव से निपटने में विशेषज्ञ हैं। 80 से 90 प्रतिशत निकासी पूरी हो चुकी है।

- घटना से जुड़ी प्रारंभिक रिपोर्ट में बताया जा रहा है कि स्टाइरीन(Styrene) गैस के रिसाव से यह हादसा हुआ है। इस गैस को पीवीसी गैस के रूप में भी जाना जाता है।

- विशाखापट्टनम के जिला कलेक्टर विनय चंद ने किंग जॉर्ज अस्पताल का दौरा किया, जहां  प्रभावित लोगों का इलाज किया जा रहा है।


- प्रधानमंत्री कार्यालय की ओर से जानकारी दी गई है कि विशाखापट्टनम में गैस रिसाव की स्थिति के मद्देनजर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज सुबह 11 बजे एनडीएमए की बैठक बुलाई है।


- प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर बताया है कि उन्होंने विशाखापट्टनम में स्थिति के संबंध में गृह मंत्रालयऔर एनडीएमए (राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण) के अधिकारियों से बात की है। इस घटना की कड़ी निगरानी की जा रही है।मैं विशाखापट्टनम में सभी की सुरक्षा और कल्याण के लिए प्रार्थना करता हूं।

- आंध्र प्रदेश के डीजीपी डीजी सावंग ने जानकारी दी है कि आंध्र प्रदेश में अब तक 7 लोगों की मौत हो चुकी है। इनमें से एक मौत भागने की कोशिश में कुएं में गिरने से हुई है। डीजीपी के मुताबिक आज सुबह आज सुबह लगभग 3:30 बजे यह घटना हुई। निकासी अभियान अभी भी जारी है। देशव्यापी लॉकडाउन के कारण प्लांट बंद था।

- गृह राज्य मंत्री जी किशन रेड्डी ने विशाखापट्टन गैस रिसाव की घटना पर कहा है कि मरने वाले लोगों के परिवारों के प्रति मेरी संवेदना है। मैंने स्थिति का जायजा लेने के लिए राज्य के मुख्य सचिव और DGP से बात की है।एनडीआरएफ की टीमों को आवश्यक राहत उपाय उपलब्ध कराने का निर्देश दिया। अभूतपूर्व और दुर्भाग्यपूर्ण घटना में सैकड़ों लोग प्रभावित हुए। मैंने गृह सचिव, जीओआई से बात की और उनसे आवश्यक सहायता प्रदान करने का अनुरोध किया।

- इस बीच आंध्र प्रदेश के सीएम सीएम वाईएस जगन मोहन रेड्डी विशाखापट्टनम के लिए रवाना होंगे। वह किंग जॉर्ज अस्पताल जाएंगे जहां प्रभावितों का इलाज किया जा रहा है। मुख्यमंत्री स्थिति की बारीकी से निगरानी कर रहे हैं और जिला मशीनरी को तत्काल कदम उठाने और सभी सहायता प्रदान करने के निर्देश दिए हैं।

आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री कार्यालय ने बताया कि मुख्यमंत्री जगन मोहन रेड्डी ने विशाखापट्टनम में गैस रिसाव की घटना के बारे में पूछताछ की है और ज़िले के अधिकारियों को ज़िंदगी बचाने और स्थिति को नियंत्रण में लाने के लिए हर संभव कदम उठाने का निर्देश दिया है।

- इससे पहले विशाखापट्टनम शहर के सीपी आरके मीणा ने  बताया कि गैस रिसाव पर काबू पा लिया गया है। एनडीआरएफ की टीम मौके पर पहुंच गई हैं।आरके मीणा के मुताबिक गैस रिसाव का अधिकतम प्रभाव लगभग एक से डेढ़ किमी था लेकिन इसकी गंध 2 से ढ़ाई किमी के क्षेत्र तक फैली थी। 100 से 120 लोगों को फिलहाल अस्पताल में भर्ती कराया गया है। इस घटना में कुल 3 व्यक्तियों की मौत हुई है। एफआईआर दर्ज कर ली गई है।सीपी आरके मीणा के मुताबिक यह स्टाइलिन गैस रिसाव था। हमने गांव को खाली कर दिया है।अब हम डोर-टू-डोर खोज कर रहे हैं।

- आरआर वेंकटपुरम गांव के एलजी पॉलिमर उद्योग में सामने आई इस घटना में आंखों में जलन और सांस लेने में तकलीफ की शिकायत के बाद लोगों को अस्पताल ले जाया गया। पुलिस, फायर टेंडर, एंबुलेंस मौके पर पहुंची हैं और राहत एवं बचाव कार्य जारी है। वेस्ट जोन के एसीपी स्वरूप रानी ने बताया कि कि उद्योग से रासायनिक गैस का रिसाव 3 किमी तक फैला है, वहीं समाचार एजेंसी पीटीआइ के मुताबिक विशाखापट्टनम में हुई गैस रिसाव की इस घटना में अब तक 70 लोगों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है।


- मुख्यमंत्री वाई एस जगन मोहन रेड्डी ने घटना के बारे में जानकारी ली और विशाखापट्टनम के जिला कलेक्टर को प्रभावित लोगों के लिए उचित चिकित्सा देखभाल सुनिश्चित करने का निर्देश दिया। एक प्रत्यक्षदर्शी ने कहा कि कई लोग जमीन पर बेहेोशी की हालवत में पड़े हुए थे। यह घटना गोपालपट्टनम के पास नादुथोटा इलाके के आसपास स्थित पॉलिमर इकाई में हुई।

कोई टिप्पणी नहीं