Breaking News

वंदे भारत मिशन के तहत होगी विदेशों में फंसे भारतीयों की वापसी, सरकार ने बनाया मेगा प्लान

नई दिल्ली. कोरोना वायरस संक्रमण के चलते विदेशों में फंसे भारतीयों की वापसी 7 मई से होने जा रही है। इसके लिए व्यापक पैमाने पर तैयारी की गई है। इस मिशन का नाम सरकार ने "वंदे भारत मिशन" रखा है। समाचार एजेंसी पीटीआई ने सूत्रों के हवाले से बताया है कि इस मिशन के तहत सिर्फ खाड़ी देशों में करीब 3 लाख लोगों ने वापसी के लिए पंजीकरण कराया है, लेकिन केवल उन्हीं लोगों को वापस लाया जाएगा जिनकी विविशता अधिक होगी।
विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने ट्वीट करते हुए कहा कि वंदे मातरम मिशन की तैयारी शुरू हो चुकी है। विदेश में फंसे भारतीयों की 7 मई से वापसी के लिए योजना बनाई जा रही है। हम उनसे ये अपील करते हैं कि वे अपने दूतावासों के साथ नियमित तौर पर संपर्क में रहें।

विदेश मंत्रालय खाड़ी देशों से नौकरी छूटने के बाद आ रहे कुशल कामगारों के आंकड़े राज्यों और केंद्र सरकार के मंत्रालयों को देगा ताकि उन्हें रोजगार मुहैया कराया जा सके। विदेश मंत्रालय भारतीय लोगों को लाने की इस विशाल प्रक्रिया को लागू करने के लिए भारतीय दूतावासों और राज्य सरकारों के साथ समन्वय कर रहा है।

यूएई से 7 मई को 2 स्पेशल फ्लाइट्स से भारतीयों को लाया जाएगा वापस
कोविड-19 वैश्विक महामारी के चलते संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) में फंसे भारतीयों को निकालने के लिए गुरुवार (7 मई) को 2 विशेष उड़ानों का परिचालन किया जाएगा। इन उड़ानों में सबसे पहले केरल के आवेदकों को भेजा जाएगा क्योंकि स्वदेश वापसी के लिए पंजीकरण करवाने वालों में सबसे अधिक संख्या में इस राज्य के प्रवासी शामिल हैं। यूएई में भारत के राजदूत पवन कुमार ने यह बात कही।

सोमवार को भारत सरकार ने 7 मई से विदेश में फंसे अपने नागरिकों को वापस लाने के लिए योजना की घोषणा की थी। गल्फ न्यूज ने कपूर के हवाले से कहा, '' मिशन ने प्राथमिकता वाले यात्रियों की सूची एअर इंडिया को सौंप दी है। हम प्रत्येक यात्री को टिकट प्राप्त करने के लिए कॉल और ई-मेल के जरिए एअर इंडिया से संपर्क करने के बाबत सूचित करेंगे। राज्य से आवेदकों की सबसे अधिक संख्या होने के चलते बृहस्पतिवार की पहली दो उड़ानें केरल के लिए होंगी।'' 

राजदूत ने कहा कि आवेदकों की ओर से बताए गए गंतव्यों के मुताबिक लगभग दैनिक स्तर पर उड़ानों का संचालन किया जाएगा।वहीं, कोच्चि में मंगलवार को एक रक्षा प्रवक्ता ने कहा कि नौसेना के एक जहाज को दुबई भेजा गया है। वतन वापसी के इच्छुक भारतीयों को लाने के लिए आईएनएस शरदुल को दुबई की तरफ भेजा गया है जोकि कोच्चि वापस लौटेगा।

कोई टिप्पणी नहीं