Breaking News

कोविड अस्पतालों के डॉक्टरों के लिए ई-कोविड केयर सपोर्ट नेटवर्क शुरू

लखनऊ. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री आदित्यनाथ के निर्देश पर चिकित्सा शिक्षा विभाग ने कोविड अस्पतालों के चिकित्सकों को तकनीकी परामर्श देने के लिए ई-कोविड केयर सपोर्ट नेटवर्क की स्थापना की है। इस व्यवस्था से कोरोना वायरस के मरीजों का समय से उचित उपचार किया जा सकेगा और संक्रमण की वजह से होने वाली मृत्यों पर नियंत्रण पाया जा सकेगा।
यह जानकारी देते हुए चिकित्सा शिक्षा विभाग के प्रमुख सचिव डा. रजनीश दुबे ने बताया कि कोविड-19 अस्पतालों में मरीज कोरोना वायरस के अलावा अन्य गंभीर बीमारियों से भी ग्रसित होते हैं। इन रोगियों के उपचार के लिए गंभीर बीमारियों के विशेषज्ञ चिकित्सकों से परामर्श के साथ ही ऑक्सीजन व वेंटीलेटर मैनेजमेंट में भी सलाह की जरूरत होती है। इसीलिए ई-कोविड केयर सपोर्ट नेटवर्क की जरूरत समझी गई। उन्होंने बताया कि  प्रदेश के एल-1, एल-2 व एल-3 के कोविड अस्पतालों में टेलीकम्यूनिकेशन सेंटर स्थापित किए जाएंगे। ये संचार के विभिन्न माध्यमों से जुड़े रहेंगे। इस हब सेंटर पर रोगी की केस हिस्ट्री, रेडियोलॉजिकल व क्लीनिकल इन्वेस्टीगेशन रिपोर्ट डॉटा एक्सचेंज करने की भी सुविधा होगी। कोविड अस्पतालों के चिकित्सक आडियो-वीडियो कांफ्रेन्स के जरिए प्राइमरी हब सेंटर पर बैठे विशेषज्ञों व पीजीआई, केजीएमयू, बीएचयू व अन्य सुपर स्पेशलिस्ट चिकित्सा संस्थानों के विशेषज्ञ एडवांस्ड हब के द्वारा कोविड अस्पतालों को विशेषज्ञ परामर्श उपलब्ध कराया जाएगा। कोविड अस्पताल, प्राइमरी व एडवांन्स्ड हब से आपस में लिंक रहेंगे।

विभाग ने मंडलों के आधार पर  विशेषज्ञों की सलाह के लिए तीन प्राइमरी हब सेंटर और तीन एडवान्स्ड हब बनाए हैं। पश्चिम क्षेत्र के मंडल के कोविड अस्पताल प्राइमरी हब के लिए मेरठ मेडिकल कालेज और एडवांन्स्ड हब पीजीआई लखनऊ बनाया गया है। मध्य क्षेत्र के मंडलों के कोविड अस्पतालों के लिए कानपुर मेडिकल कालेज प्राइमरी हब और एडवांस्ड हब केजीएमयू, लखनऊ है। पूर्वी क्षेत्र के मंडलों के कोविड अस्पतालों के लिए  प्राइमरी हब प्रयागराज मेडिकल कालेज और एडवांन्स्ड हब बीएयू, वाराणसी बनाया गया है। कोविड अस्पताल के चिकित्सक सबेरे आठ से बजे से लेकर रात आठ बजे तक केस हिस्ट्री समेत सभी चिकित्सीय प्रपत्र सेंटर पर उपलब्ध कराएंगे।

कोई टिप्पणी नहीं