Breaking News

प्रियंका गांधी और योगी सरकार में लेटर वॉर, बस के लिए कांग्रेस ने मांगा और समय

लखनऊ। नोएडा-गाजियाबाद में प्रवासी मजदूरों के लिए एक हजार बसें उपलब्ध कराने के मामले में प्रियंका गांधी और योगी सरकार के बीच लेटर वॉर जारी है। कांग्रेस ने पत्र लिखकर शाम पांच बजे तक का और समय मांगा है। प्रियंका के सचिव संदीप सिंह ने अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश अवस्थी को पत्र लिखकर बताया बसों का परमिट लिया जा रहा है। राजस्थान से बस आ रही हैं। इसलिए वक़्त लग रहा है। शाम 5:00 बजे तक यात्रियों की सूची और रूट मैप तैयार रखें।
पत्र में संदीप सिंह ने लिखा, 'आपका पत्र सुबह 11:05 बजे मिला। इस संदर्भ में बताना चाहता हूं कि हमारी कुछ बसें राजस्थान से आ रही हैं और कुछ दिल्ली से, इनके लिए दोबारा परमिट दिलवाने की कार्यवाही जारी है। बसों की संख्या अधिक होने के नाते इसमें कुछ घंटे लगेंगे।'

आपको बता दें कि कांग्रेस ने मंगलवार सुबह लखनऊ में बसें उपलब्ध कराने में असमर्थता जाहिर करने पर उत्तर प्रदेश सरकार ने उन्हें 500 बसें गाजियाबाद तथा 500 बसें नोएडा के जिलाधिकारियों को सौंपने को कहा है। मंगलवार सुबह अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश अवस्थी ने कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी के निजी सचिव को भेजे गए पत्र में कहा कि आपके पत्र के अनुसार आप लखनऊ में बस देने में असमर्थ हैं एवं नोएडा,गाजियाबाद बार्डर पर ही बस देना चाहते है। अत:ऐसी स्थिति में कृपया जिलाधिकारी गाजियाबाद को 500 बसें 12 बजे तक उपलब्ध कराने का कष्ट करें।

अवनीश अवस्थी ने कहा कि इसके अतिरिक्त 500 बसें नोएडा में जिलाधिकारी गौतमबुद्ध नगर को एक्सपो मार्ट के निकट ग्राउंड पर उपलब्ध कराएं। संबंधित जिलाधिकारी को निर्देश दिए गए हैं कि वह बसों का परमिट, फिटनेस, इंश्योरेंस आदि के दस्तावेज व चालक के लाइसेंस तथा परिचालक के दस्तावेज चेक कर बसों का उपयोग तत्काल करें।

औरैया सड़क हादसे के एक दिन बाद प्रियंका ने मांगी थी बस के लिए अनुमति
औरैया सड़क हादसे के एक दिन बाद कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने ट्विटर पर वीडियो संदेश के जरिए भी इस बात के लिए आग्रह किया था। उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी की तरफ से यूपी सीमा पर श्रमिकों को ले जाने के लिए एक हजार बसें तैयार हैं, इसके लिए आप अनुमति प्रदान करें। इसके अलावा कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र लिख कर 1000 बस चलाने की अनुमति मांगी। उन्होंने पत्र में लिखा है कि अलग-अलग हादसों में उत्तर प्रदेश में अबतक 65 मजदूरों की सड़क दुर्घटनाओं में मौत हो चुकी है जोकि कोरोना महामारी से मरने वालों की संख्या से भी अधिक है। प्रियंका गांधी ने यह पत्र तब लिखा है जब औरैया में हुए एक हादसे में 25 प्रवासी श्रमिकों की मौत हो गई है और 30 से ज्यादा लोग घायल हो गए हैं।

फिर बस लखनऊ भेजने की मिली अनुमति
इस पर सोमवार देर रात अपर मुख्य सचिव (गृह) अवनीश कुमार अवस्थी ने प्रियंका वाड्रा के निजी सचिव को पत्र लिखा कि सभी बसों के चालकों के ड्राइविंग लाइसेंस, परिचालकों के परिचय पत्र और बसों के फिटनेस प्रमाण पत्र जिलाधिकारी कार्यालय लखनऊ को वृंदावन योजना सेक्टर-15 और 16 उपलब्ध कराएं।

लखनऊ असमर्थता पर नोएडा और गाजियाबाद भेजने को कहा
अवनीश कुमार अवस्थी के पत्र के जवाब में प्रियंका वाड्रा के निजी सचिव संदीप सिंह ने पत्र के माध्यम से ही जवाब दिया था कि सोमवार देर रात 11.40 बजे ईमेल से यूपी सरकार का एक पत्र प्राप्त हुआ है जिसमें 1000 बसों के तमाम दस्तावेज लखनऊ में सुबह 10 बजे देने की बात कही गई है। ऐसी स्थिति में एक हजार बसों को लखनऊ भेजना न सिर्फ समय और संसाधनों की बर्बादी है बल्कि अमानवीयता भी है। इस पर उत्तर प्रदेश सरकार ने उन्हें 500 बसें गाजियाबाद तथा 500 बसें नोएडा के जिलाधिकारियों को सौंपने को कहा है।

प्रियंका गांधी ट्वीट टाइमलाइन
16 मई- (अपराह्न 4.29 बजे)आज  यूपी सरकार को पत्र लिख कर कांग्रेस की तरफ से 1000 बसें चलाने के लिए अनुमति मांगी है। मैंने सरकार से पहले भी अपील की है कि कृपया पैदल चल रहे मजदूरों को घर पहुंचाए। ये मजदूरों को अकेल छोड़ देने का समय नहीं है। आशा है उप्र सरकार से सकारात्मक जवाब आएगा। 

17 मई-(दोपहर 3 बजे) यूपी के हर बार्डर पर मजदूर हैं। हमारी योजनाओं के बारे में सोचा नहीं जा रहा। कोरी घोषणाओं व ओछी राजनीति से काम नहीं चलेगा। हमें 1000 बसे चलवाने की अनुमति दीजिए।

17 मई- (दोपहर 3 बजे व 3.59 बजें)हमारी बसें बार्डर पर खड़ी हैं। योगी आदित्यनाथ जी हमें अनुमति दीजिए। हमें भाई बहनों की मदद करने दीजिए।

18 मई- ( 1.47 बजे) बसों को उप्र बार्डर पर लाकर खड़ा किया तो यूपी सरकार को राजनीति सूझती रही और हमें परमीशन नहीं दी। विपदा के मारे लोगों को कोई सहूलियत देने के लिए सरकार न तो तैयार है और कोई मदद दे तो इससे इनकार है।

 18 मई-( 5.09 बजे)  महामारी के समय इंसान की जिंदगी बचाना और गरीबों की रक्षा करना, उनकी गरिमा की हिफाजत करना हमारा नैतिक दायित्व है। कांग्रेस इस कठिन समय में अपनी पूरी क्षमता व सेवाव्रत के साथ अपने कर्तव्यों का पालन कर रही है। ये बसे हमारी सेवा का विस्तार है। कांग्रेस के खर्चे पर 1000ब सों को चलाने की इजाजत देने के लिए धन्यवाद। 

कोई टिप्पणी नहीं