Breaking News

बिहार में कोरोना संकट के बीच ड्यूटी से गायब पाए गए सरकारी अस्पतालों के 362 डॉक्टर

पटना. बिहार एक ओर कोरोना के संकट से गुजर रहा है वहीं, सरकारी अस्पतालों में ड्यूटी से डॉक्टरों के गायब होने का सिलसिला जारी है। कोरोना संकट के बीच 362 डॉक्टरों को अपने कर्तव्य स्थल से अनुपस्थित पाया गया है। स्वास्थ्य विभाग ने इन्हें 31 मार्च से 12 अप्रैल के बीच अलग-अलग तिथियों को जांच के क्रम में ड्यूटी से गायब पाया। 
कटिहार को छोड़कर शेष सभी 37 जिलों में डॉक्टर अपनी ड्यूटी पर नही पाए गए। स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव संजय कुमार ने मंगलवार को बताया कि महामारी कानून के तहत इन सभी डॉक्टरों से स्पष्टीकरण मांगा गया है। सार्वजनिक विज्ञापन एवं पत्र लिखकर इन डॉक्टरों को स्पष्टीकरण देने का निर्देश दिया गया है। 

सबसे अधिक 31 डॉक्टर नालन्दा के अस्पतालों से गायब मिले। वहीं, जहानाबाद में 27, पटना में 25, रोहतास में 24, भोजपुर और मुंगेर में 18-18, सारण में 12, बांका में 11 अरवल में 7, अररिया में 3 और औरंगाबाद में 2 डॉक्टरों को कर्तव्य स्थल से गायब पाया गया। 

राज्य स्वास्थ्य समिति करती है जांच विभाग के तहत संचालित राज्य स्वास्थ्य समिति के द्वारा समय-समय पर सरकारी अस्पतालों में तैनात स्थायी व संविदा पर तैनात डॉक्टरों और स्वस्थ्यकर्मियों की उपस्थिति की जांच करायी जाती है। इसके पूर्व एक बार जांच में 76 डॉक्टरों को गायब पाया गया था। सूत्रों ने बताया कि अंतिम जांच में 139 डॉक्टर ड्यूटी से गायब पाए गए है।

कोई टिप्पणी नहीं